O slideshow foi denunciado.
Utilizamos seu perfil e dados de atividades no LinkedIn para personalizar e exibir anúncios mais relevantes. Altere suas preferências de anúncios quando desejar.
दृश्वाहूँढधाहैआहुँ अँ००पृ छूहूँदैहै। ००९७०)
८७०८3 ढम्भदृपृआरुनृधदृरुहआद्रदृड्डेछदृदृ ८3 3०33 हुँ 
रुहब्धलूदृतूणादैच्चिगु र...
कृड्डीस्थिनंकृडे०१३'3०थी3००९०१८2८८3९१(२.।)टे'
ड्डिहैर्णा। ढरन्नणुद्रदैदृपृड्डीछखदृर्णओ 3८७3३3। ०0३०४
1]3/3८०दृ८हू८८३०3८31[...
९३

छध्यहैंउहूँड्डिछैहुँ छदृहुँछेहँद्रव्यूछुड्डद्रलोंड्डे छस्त्रहँहुझुर्णा।
दृव्रपृमृप्रैछेछेड्डिदैब्रआदृहुँ छशुठेष्ठआठेहँ...
हैं
दो
क्या

(श्वाहूँखठद्रव्रप्रमृधड्डेढणहुशाछढस्मृदृछुहुँरुहूँ फक्षाशुदृनृ
ज्यटेहूहुँ उप्रछट्टीश्यर्णठीआहुँ।। ढधादैपृढर्व...
Próximos SlideShares
Carregando em…5
×

Jerusalem Tour - Yay shu

264 visualizações

Publicada em

ေယရုဆလင္ျမိဳ႔ခရီးစဥ္ Jerusalem Trip (Rev.ေစာစံေအာင္)

သမိုင္း၀င္ေနရာမ်ားသို႔ ၂၀၁၂ခုႏွစ္ ေမလတြင္ခရီးသြားေရာက္ ေလ့လာခဲ့ေသာ ဆရာေစာစံေအာင္၏ အတိုခ်ဳပ္ ပထမဆံုး ေရးသားခ်က္ျဖစ္သည္။ တက္ေရာက္ေနေသာ မဟာက်မ္းစာသင္တန္း EAST Bible School (Singapore) မွာ ဘာသာရပ္တခုအတြက္ အေထာက္အကူျပဳခ၇ီးစဥ္လည္းျဖစ္သည္။
ေဆာင္းပါးတိုကို
(၁) ၾကိဳတင္ျပင္ဆင္ျခင္း
(၂) က်မ္းစာ၊ ပထ၀ီေျမပံု၊ ဘာသာရပ္ေလ့လာျခင္း
(၃) ဗီဇာေလွ်ာက္ထားျခင္း
(၄) အဖြဲ႔ႏွင့္ခရီးစဥ္အေၾကာင္း .. အထူးသျဖင့္ ဓါတ္ပံုအခ်ိဳကို မွတ္တမ္းအျဖစ္ တင္ျပပါသည္။ ဓါတ္ပံု၊ ဗီဒိယိုမ်ားလည္း ရိုက္ကူးခဲ့ပါသည္။

4 Pages - to Download Link
http://murann.com/stories/yay%20shu.pdf

Publicada em: Espiritual
  • Seja o primeiro a comentar

Jerusalem Tour - Yay shu

  1. 1. दृश्वाहूँढधाहैआहुँ अँ००पृ छूहूँदैहै। ००९७०) ८७०८3 ढम्भदृपृआरुनृधदृरुहआद्रदृड्डेछदृदृ ८3 3०33 हुँ रुहब्धलूदृतूणादैच्चिगु र्ताद्वादृएछेकुँहूँ ब्धट्ठछंस्नाणुदृहैद्रख्याठी आ९३ड्डे>८3०दै८कुँ१3०पृ3८की ढदृछूएछउढप्यूदृछहँपृ: ८133: ड्डिलेंहूँहुँछंदृदृहूछंदृआछदैर्णछम्भदृड्डपृसुंछानुनुहैहज्ञट्टे च्चेदृट्ठहूँट्टे: (प्रब्धर्टश्च उछंट्ठढस्मृद्रहूँदैदैदृट्वेंआढहंछंइअंणुहँइछछठी ढउब्धक्षुद्रद्रछड्डेहुँबुड्डोंहपृदृठेगृत्रुट्वेंछं ढएरूड्डाणाछंट्ठहूँस्मृड़ेठी आर्टा। र्थाठन्नहँपृइछहूँआहूँ ०३033१दृढ7णुहै:शाढ(7णु)८३८ 533१३ (1३८15३ ,स्थिति 5०१1०01 ०? मृ३1।601०टुच्च)र्ण 333ब्धछंहपृहँष्णर्कीदृद्रउद्रढकुँङ्कहूँउ3हुँ…९३रु73०८छूदृ७छं८1ड़े न्धुठदृढहपृधरुन्नहैंहेंआट्वेंछहँकूष्टाहुँड्डिठेद्वाहुँ।। र्थाछहूँद्दछहूँ हुँ ॐहँप्नश्चाणुहैंश्याव्रठी ड्डिदैहैशुठेष्टकुँदृड्डाझूब्दर्ण आहूँदैदृ। आहुँढस्नाणुन्हहूँ। ०दृद्र०3८ठड्डि९उ2८3कुँ32००)८कुँ८३ ८7२13८०३ आवृहूँष्टाब्र ड्डादैदृणाठेदृकूरून्नदृधूव्रदृध्दहूँ क्षुरुग्रहैड्डिदैढदृट्यष्टा) आहैम्भद्विहूँहँइड्डेड्डिहैंहैंद्रड्डिदूँ आहैंछंतां/णुहैंदृद्वाठध्दन्नड्डि (हूँहूँश्याहूँपृहु) ओंडूठाआहुँट्ठहूँ। आहैंछस्त्रत्रुहैद्रष्टाप्रउछद्वाप्र हूँहूँर्दहैर्णटदृ] म्भट्ठेड्डिर्द्धष्टानुकृरुड्डेशहेंठीॐहैंहूँ।। क्या, व्यर्थ:" .1 ९आ153 डिगा 'णिह्म ' ( 1२९३८००36८3233) ० ।। हूँट्टेड्डछंद्रदैहूँदृहँज्यहँङ्कदृ (८73) दृग्रछूफदृब्रनुछहैंदृड्डिहैंद्रा दृ/श्लेठेकैझपृ! 3८1८1०211311०1181 5३11९1४ नंणाच्चार्यआमुं कूट्वेंपृष्टश्चिव्रदैद्रष्टादृश्चादृश्लेहुँदृकृहैंएपृड्डी ०९6८जिप्रयप्रपुरा०जि२य९राहोतों ढउआष्णुग्र: धदृदुझुहुंछंद्रछब्लूत्ररुन्नहै ष्ठएछूस्तादृरूड्डि ठेर्णड्डिहैढर्वीदृछछंहूँ) ८31२३९३।। नुहुँदृहैनुठहै थ्वीछहैंपृध्दछहूँउद्भप्यूदृहँ स्यहुड़ेस्नाणु म्भहँढट्ठआर्ट रुखाहूँढथ्यट्वेंआदूँ णुद्रदृड्डिधदृदृदुड्डी ८२०3०3हूँ3र्दा।। ८3०णु3८३८डा13ल्य61०33छूहुँ ढॐठह्रच्चीइछहुँरुन्नट्वे दृश्व3८हृड्डेपृहूँ८आहँनुह्र०33हुँ८दृ) 0३73८ ८ट्वे१3ध्द४3१हूँ323८००८3ड़ेदृ3६प्रड़े०20३६७३३: ष्टहँछं: स्मृहूँ छत्रशुहँदृढछाशुड़ेछदृहूँष्टडूदृहूँक्रतीआऊँ।। ५००० कुँछेढडूछंहैंदृहूँदैद्रहुँ पुड्डेछहँपृश्याहुँकुँहूँ ७ती०होती ८0०० ०श्चाणुग्रदैद्रर्णएछश्याहैत्नद्रहैदृढहूँहुँकैड्डित्रस्थाड्डिछर्णड्डि: धदृक्षुछंदृॐह्महँआहुँ ढध्यछआछंहीर्णष्टस्मृड्डिद्रर्दहैड्डी क्ष्यहाहूँदृरुट्टेब्बहूँ ००००८हुँ८हैं८द्रआ332दृपृ८३ड्डि८3८र्थि०ठे: 33६हूँ०3००3८२3हुँ33०३८३८ (कृड्डेर्थिट्वेंड्डिहँइड्डिहूँ ज्ञठेग्रादृगृहूँ ०छं१हँ:००:८६ट्टेस्ना3९3]33हुँ।१ हरूट्वेंउछहँम्हाद्गछे जूद्रइदृव्रड्डि 3दृ८[)८ड्डिहैंठव्र03००८१ड़े छड़ेद्रद्वाहुँकुँहूँउप्रस्मृदृ ठग्रछूरुड्डेदृब्रबंम्प्रदैदृद्देद्रर्णा। हाँगृछद्देद्रष्टाहुँउछप्यूरुहैं ब्बन्नदृहूँरुग्रंणु छट्ठक्षुछंद्रदहँ उछस्मृदृहैइन्नणुढम्भहूँदैआड्डिहुँ ०९७०७ प्रिड्यूग्राअंछिहेढकुँहूँहूँ शार्णध्येहुँ 9दृ८[3८ड्डिहैं९1०3८द्र०८ (श्चग्रदृढनुछछंढट्ठ (331000क्वे7३ ८3०:हूँव्व८3३2०हुँ।। ढक्यावृड्डाहैंद्रद्रहूँएछऊँ: पुहूँपृछहँपृइछहूँउहुँग्रदृहूँहैंष्टदृहूउइदृद्रठेहकृहैं 6००303८303०८1८८3०८९३१3 33८13८303०3३३ ह्रड्डत्रुहूँहुँहुहुँपृद्धत्विरूशूनुइदृहूँ [हुँहूँछछाद्धछहन्नङ्कदृद्रदृहुँ ८30333८5 दृपृर्वीऊत्रहुँ।। 3८1८3८२33 छहुँदृहैर्णदृठउट्ठछर्षत्रदृओछु श्चदृदृपृग्राआहद्रहँदैहैदृईर्णछखहँड्डी ८2०८८ध्या3ह्र१13१र्ण हूँर्टड्डेशमृऊँ८इ०८दृदृछसिं7हूँआ3 थ्वीछबैशाहुँद्रझ्वड्डे दृकृहँछंद्रढहपृछरुन्नहैंहूँदैड्डिदैदृड्डिछेआहुँ।। (०) णाहँद्रष्ठाष्ठधाहैष्ठड्डिगृत्माआपृहैंठरुछूणाडिंर्दे: ठेणार्णड्डाप्रेग्राहु ०11 स्मगृड्डाहांटढा 3६1शो1हु5 र्ण 11१६ 31516 झी दृन्नणुछेइछछंढ[हँहुँकुँआछआठदृपृहैदृहूँडहएछूदृछछंदृपृहूँ झादैहुँइछेहूहुँदृछग्रठेढछछउदृठेसुंछं 1३11९ भिक्षा 1४/1००८1३/ त्याछिड्ड याँ 3101० [आगाँ ड्डिछेआहुँ।। थ्योंधाउदृठे आऊँ छक्षुछंदैहूँफड्डिकुँउप्रर्ददृउव्रणाहँड्डिहूँ दृपृहँदृशादै: २1०3 उव्रड्डिह्रड्डेउछर्दहेठीछाहैढनुद्रअ ग्रग्रत्रउदृठेड्डिछेरुद्रमैं।। ००००हुँ ०33दृहैं1००3९पृड़े००८73 हैंपृटूटूछट्ठेहुँदृद्भएरयुदृष्टाप्र रुनृड़े ड्डिटूहूँष्टऊक्रिरूछहुँदृ दृव्रड्डेदृहृहूम्भछाक्तिठेढछु (.85 11121१छो03 रुद्रड्डिहाधष्ठदृठेअआर्दठेढब्रहूँ ००3ढ०८८हूँदृ४3ड्डी दृदृछद्वाछश्चादृहूँउठे ०८7मृ1८१दृ८6०33८५3रुई०3ब्बहींड्डिहुँ १ एरेंहूँदृब्रठेठीटनुनुहुँ।। उम्रदुहुढप्यूदृच्ची-छछहुँएइहूँ र्धाष्ठाष्ठहुठेदृहूँड्डे उझछउद्रछदूँव्रदृढध्यइणुद्रपृहूद्र ढदृछूशाग्रड्डी (हछदृबुहूँम्भत्रुझश्चाड्डे (हूँर्णर्णहँढड्डिह्रप्नड़ेदृपृहींआहैड्डेप्र छहँपृइधनुहूँछझिड़। 31855 ८;८0दृश्चिह्म३(!303रु3८[३इ7३३हूँ१९3]33हुँशा ढड्डिदृप्राद्रब्दत्युहैं) श्चिड्डहूँहूँहँव्रहैंप्पीछनुदैड्डिन्धुस्नाहैंएफ्रंड्डेड्डिहूँ ढद्रुछूटआहुँदृपृर्णा। झूदृछद्रढस्मृअक्कीढएछूएच्छानुड्डिछहुँ 33१3८3०3 हूँणुधादै छदृहूँपृड्डिदैआदैध्यठदृलूहूँ झूव्रइ। दृफूद्रनुहैदृछदृ। 33 २1 (ब्रहैझुअ ०३ ० हें: ७ नुहँत्र द्रहूँहैउग्रदृलुहँव्रक्षिहँ) 6 111 21 1 1 1116533पुदृ (ड्डेहत्रुदृछेखुफुद्रम्भपृड़ेर्द आऊँ।। हैं:) हैंछइउदझाशाहैंड्डिड्डि ड्डिहूँखछहूँदैर्ट हूझनुनुच्चग्रनुडादृर्वट्टेदैज्यछंदृटभू ०3८3 ००330३३3312८डूहुंहूँ उछपृहूँढदृद्रहूँहँदैएनुहँछंदृढपृड़े ९३९७ ।लय८पाजिझा२जि९सी।। ३7ड्डि३स्कृ३३ष्ठे33३1०दृरें३3च्च ड़ेदैदैआछंनुझूद्रन्धअट्टे [कुपृधादैढएजुग्रस्नाहैशुड़े ०८1३९31।। ८3९३०0३ धाठेद्रुष्टाहुँहम्नहूँदृन्न) लुड्डादृक्षुद्रदृग्रहैंढपृठछहँहँहै ढस्नाशूग्रदैदृछू दुप्र01द्देदृ530च्चाह४ड्डि८५3०च्चि८हैण) ०८73०१दृहुँगृ उठेदृ ८८ दृछछैह्रट्वे दुभूदृछदृरुठह 'शाहैंस्यछंछंफड्डिआहधाहुँ (नुघ्रहैज्यछान्नणुहैहुँ हैख्यादृपृस्थिरैठनुऊँ।। (ग्रट्टहँहारुन्नदृ 15रटा1छि111 [ मृरेटाझप्रेश्र्वटेहूँदैशुहुँ छहिप्यूश्चादृदैठेछद्रदृन्नट्टे शार्ट: लुछूत्रनुर्देणाहैहैशुथीनुत्रर्टा। ५ ० ० ट्वि ८५ ० ५1 ।। ड्स3र्दहूँतै०छे८छ333३छिक्षि3३०2 ० ५ ८ ध्ददृणु डेढ ०33०३८3 ज्जशुबैहैं इहै) ग्निच्चा 1:८3 २३333 हुई
  2. 2. कृड्डीस्थिनंकृडे०१३'3०थी3००९०१८2८८3९१(२.।)टे' ड्डिहैर्णा। ढरन्नणुद्रदैदृपृड्डीछखदृर्णओ 3८७3३3। ०0३०४ 1]3/3८०दृ८हू८८३०3८31[कुप्यूशू३।३दृ१०ती८3।(०)३८३९ ८? ड्डिहृर्ध [हैहैफैब्धद्विऊंकृ प्लाहैंच्चिक्योंब्धमैंटेब्धऊँ' [ठुहैर्णज्ज ०८73३१११। ००(०२)णुकुँध्द3८३८३।हुँ ०११८3 हूँदृदृछशाछपृकुद्रदैम्पाट्टेदैडड्डिदूँ प्यूल्यमृट्ठीष्यप्रहूँठद्दपृप्र कुँङ्करुई। हूँम्भव्रटोहुँ '1३1धा151रं 182111 ष्टखुत्रछधाछुत्र ०१०८४३०ट्ठ31८31०प्नहुं।। व्यय हन्त्रओंहुद्यहैछप्यूफुड्डाव्रअं।। प्याहूँढध्यदृधदृअछं। श्चिल्यब्रहँढ८[३दृ४3दृ।हूँ[दृदृ००००हुँ:०००३दै०दृ९गुआब्र३ ओंद्रढड्डिद्रज्यहैछुव्रर्थिड्डूव्रहूँदृव्रप्रठ ८१1३८००3 ८८७३3८०3 ०दृ८पृग्र८3स्यशू3दै४हुँ३1८[द्र०दृ अहुँदुइड्डिदृर्वहैंशुथ्यशड्डिहूँशुश हूँड्डिआहुँ।। ड़ेकुँदृब्रदृश्यव्ररुब्रट्वे छहूँदैपृद्रठआमुँकुशुआहुँ।। कुँत्रहँपृहूँहैष्टध्यआछं आठच्चेहूँरुपृज्यर्थिदूँ १०3०33५०33 कींघठेकुँक्षुशहूँगृदृछेहुँ ढज्यछठेठेझदृप्रप्रच्चेहूँदृष्टड्डिहूँध्याश्या छापृत्रुछाक्तुहूँदैदै णेकीछप्रदृव्रछेड्डिड्डछदृ ढक्यूंअश्लेट्ठहूँश्याठ्ठे हैट्वेदैद्रहुँ छशुछंगौव्रहैआड़ेधीज्यहुँ।। ८३०८४3८०३3१००६ छहैंश्मभ्यापृदृशूव्रष्टधाड्डि। ज्यप्रढशुग्राकृहैक्षिड्डाहूँकू की शुव्रदृढध्याहत्रुहूँगूँछिणहूँछग्लै (तैप्नहूँर्षक्योंकुँहूँढ०हँ_हादूँ)[ड्डे: टकृशैआहूँशप्रक्विदृग्धशड्डिहूँ आट्ठछहाशूक्रिज्यह्रक्षणुछहुँदृद्रड्डि क्षस्मृछंहग्रहैदूँदृष्ठक्तुख्याड्डिध्यशु।। छूहूँटुदैउछछू। भी। ०८1४००१। आर्णढश्यादृप्रदृकुँओंध्यष्यदै।। ०३७3३। कुँछष्टहूँन्ग्रध्ये। छवृतहँद्रच्चिछआहुँर्णपुक्लड्डि ढक्षहुज्यद्रहेशु ठीआट्वें।। १८३।०ङ्क०03०दृ९०हुँ०आणु३००33ध्द7३ धाखुष्टदृपृछैश्यर्णद्वाहुँष्णहुँ 1०००1१० ८3१८3०3 ध्यार्णछेपृहुँड्ड ढउआछप्रहूँग्धप्रहुंम्हेंदृड्डिथींज्यहुँ।। ०ङ्क०८73०3०बुड़ेकू८र्क३१०थी८प्री००3ड्डिमुंहुँ। इआ। 3०१०८ड्स८3००ङ्क०द्र73०3८73 ढड्डिध्येद्रक्षदैणार्ण 333८7331 दृव्रदेंज्यापृच्चिट्सड्डेढशुबंखहैंहूँपृहूँठीआट्वें।। क्यों [हुँ ध्यछहूँछआदृछठीस्मृ (ओँसुंर्वठेधात्युहूदैछेप्यूठड्डिड्ड [हुँहैआहुँप्र ०८3८५दृ33च्चि3०ड्डि०2व्ला7द्रधा८ड्डि०१००हूँ शुद्यड्डिछैर्णा। हँश्यादृश्लेटादृस्तुप्रारुश्च शुहूँछदृझूआश्रदृ ००2३९ हँ हँ ०3९३ ८3:०3 ८3 1८32१ ०3 [छुई ००2० हुँ।०८3३1८3५०८3]०८त्रशू३03१नृ3०छू९गृ3।। ढदृपृछिछर्णकुँखे 3प्न०उ००(४333हुँ२३१13०८3[०००1८ट्ठेदृपृदैष्णद्रदैप्यारुद्रहै ०३1१३ ढदृरुहुध्यभ्रड़ेशुथीआट्वें।। … छदृदृञ्जज्यज्यहूँ ०ड्डि०दृ73<३८प्रि०ड्डि०६३०दै८७०3 दृव्रप्रबैद्रछड्डिदूँपृ ज्याख्याहघछध्यउदैदृकृदृ रुब्रद्रज्यशकुत्नी आऊँ।। र्थाज्यघ्रद्रहैंष्टर्वीहुँ छदृशुधच्छाव्रशुछंदँ। ०००3 ढान्नणुत्रदैद्रहूँमृड्डी र्णद्रुब्रदृब्लूठअइहाशूत्रहैद्रढाप्नछू ढकूँड्डी उक्युढक्षुध्दहूँदैर्दछप्नछकुँत्रस्यहैठआदृड्डिदृन्निरुब्रड्डे ङ्कतुड्डिदै००ट्ठ_ १९31००९3।। ०८3८७८73 ०११०७3 टाबूशुअडछूहूँड्डिबैरुक्षुदै मिहूँहूँदूँप्ला००33पृ०ज्य३०दु१३।आऊँ०ब्ध १३८६७) द्यबूरुपृपृहड्डिछैछसिंछहँष्टब्दछठस्महँशुछं ८०८००८3१० (शाठेष्णुछछरुर्वड्डे ०दृ०3ब्ध८३०03दृपृ3।द्दे।८पृ3०कुँ८[3 ड्डिहै धाई।। ०३०टूस्मृ3झ3८7शू३८र्भि०८३०3हुँ०८3ध्यरु73 ०००30८८1०७रु४3०हूँ०3०८हँ1' ढधाछदैहूँहँड्डिदै। 3००33।ठ3८हूँ०3०दृ7शू303१पृ९3।कु।रु।३ ००3१1०११० ढत्युधिदैशुछीआहैंड्डे।। ८४31३3०३ धकृआहब्रहैंधाठठ्ठे ढक्वेंआदृन्नट्टेटद्रड्डे म्हेंसुं०।०आ)0३५दृ।हैं०3पृ१८7३ आडू (ग्रशूर्देक्वि ०११०८33८२3१० ००1००1००3००3८1८3 ध्यहुँर्थिशुहूँदृरुहूँछानुआहुँ।। 3३१०33 ०२१३४०१३। ष्पहैपृगृछग्धहुँड्डिदैढानुध्यर्द्ध।। दृन्नद्राढछष्णढधाठदै दृ। ८३० 6 भी छबुम्भहुँ ०० ठहूँद्रढब्धछंदै। श्र्वदृहुदैणेश्वि 32१८3०३ ०४3। ही .ग्र… रुद्रशुअहक्लआहुँ।। ढम्भीढड्डीआठेज्यहुँ 6००६ "३३ " है । । । है ३३.' छछंश्याद्दीध्यारुशिर्दठेठ्ठेझूद्रखठेट्ठीद्रशुप्रआशुदै। क्तू०3 . भा' 1 क्वीदृ ३ , ढड्डिअढकुँष्ठव्रघाछंडष्ठप्रशु ष्टप्नहैद्रन्धाष्टाअ ढड्डिछदहँ ३ 'ऱट्वेट्वेंदृ' ' ' /, ८आअ3०८1र्ट3ड्डि०3र्णा। 2हि०००धुतिकी हँद्र०र्व३ (ग्रप्रहूँट्ठेछध्यातीहूँआहैंत्रुहुँड्डम्भहुँम्हेंछेर्ण (अहै दुनु। दृत्रड्डाछुस्मृद्रा १1०६1। हु।०घु)।।०हूँ39१3१ 6८७००० ८७ श्वीहूँछूहैश्याहँहैंड्डिदैश्यादृ छशुड्डिदैशुर्थाध्यऊँ।। छड्डेकुँआर्णहुँम्भर्द्ध। र्थि।धा।०८द्र०० षद्रक्कीड्डेर्थिद्र ८ ढदृगुठष्टड्डिहैश्वदृड्डेछकुँस्मृद्रड्डिठेढर्थिप्रदै। नुकृबुव्रमशुभिहुँ 'सू ' ०८333०००1१० प्याहूँठेक्तिठेठेटुछंहुँहुँ हूँढड्डिद्दे। ५ ०१3 ड्डिहैहूँत्रथीज्यट्वें (ज्या शुइ ००)।। धहुज्यठे 1 0 1) ९ ५१ ,दृ हुँ क्वे। ६ 5 । ० झ प्याशिहुँपृ आव्रछछतदृदृड़ेछब्धहुँहुँढश्या आठेहुँ ' ३ ३' या" म्भश्या ३ ग्रप्रठेपृड्डेर्थि। कैहुँम्भहुँ८मृ०फुत्रु१ड्डिहूँआहुँ (झुठा र्तिदृ ।--…३३३.३]"९^ "हु" ईओ' ०31०13।। म्भछदुरुब्रप्रधज्य २१3८०33८४३ हूँ "आगि" दृ … ७९' स्थाहूँड्डिहुँप्यूम्हाम्भग्रहुँ ढआश्चद्रतीर्थिएंब्लू) रै" रौ हुंदृछेहुँ ष्ठछर्णार्दाग्रछदँदृग्धध्यअधाड़ड्डछंदूँसुंगृआ ड्डिगृढदृब्रदुशुझहुँछूत्रै ३3३कूहुँ३०८1००८३ठो८३२३7त्र3नं। दृठ्ठाहूँ००33०हूँ०८छू०३००६फू3०८हुँ33हुँ तीदृरूदृदृछेछदृदैढध्यादैधटाछेछदूँम्हेंदृ श्र्वक्ष्यपुक्षाम्नर्धादेर्थद्वा/ प्लहूँ113पुडाहूँ०303हुँ(दू)३पृ०3हुं।हूँहूँर्थि1 ८१८3०३ र्णड्डेव्रस्यठदूँदैम्भहूँ। ०त्र36०3। ८८3११३6०3०८३3। हूँज्यदृहूँश्चादृहुँमुँठुदूँ। ८१९3८५३००3०३1८7१1८३ धाछानुशुछकूअदै। 0३२३३८३3०3८हु। डूछंछान्हहैंड्डि।। (व्रद्रव्रङ्कश्चिगु ढध्यादैढर्धदिछआकुँठदृठध्याहूँढपृद्रआठेढडूदृन्द्रन्धुग्रगाड्डि छठ्ठाशझशुप्राद्रठेढणङ्कदृछछंड़ेठीआहैड्डे।। (31८3८3१३३3०5 ०३ छदृप्रदृढटाङ्कड्डिहुँन्धुछठष्ठन्ब्रर्भठेदभ्यद्र शदृब्रदृढएरूहुद्धर्धट्वि ०दृ८[३।८७०:३र्णछूआ3००.>30मृ च्चेडदृछेद्रदृकुर्थाधाहुँ।। ०३। छआशुछुहूँज्यप्रग्रदैपृ। ०3३००दैध्या3१०आ3 ३1८५३८५३3३८३ ढधड्डाहूँआर्द्ध ती६13८घे33ड्डे3०३८८ड्डारु४3हूँ1दृ773 ०३१। ८ . _ . ज्यआहूँरुइधामृछट्विड्डिठेटऊदृमिआदृड्डिड्डि। ०3८0०36०० , - हुँ अछकुँडध्यछहैंर्थिध्वट्वें।। ढक्योंष्ठहूँड्डिहैद्यदृहुँछेछे … दृड्डाष्ठत्रक्षुहैद्धदृज्यहुँ। ढाआदृट्वेंर्नूकुठीआहुँ।। ढधाबु; दृ ' _ - " … दृ आर्ट ढआठेछड़ेड्डिदैहुँ ज्जश्लेछेब्धद्वगृअछध्याथ्यट्वि । ' - _… ठछधाड्डिहूँ छश्लेछेछेहेंथीथ्यर्द्धट्विड्डेछठे। हैं: ०२)।। 1 _ हैं । ३ ५
  3. 3. ९३ छध्यहैंउहूँड्डिछैहुँ छदृहुँछेहँद्रव्यूछुड्डद्रलोंड्डे छस्त्रहँहुझुर्णा। दृव्रपृमृप्रैछेछेड्डिदैब्रआदृहुँ छशुठेष्ठआठेहँञ्जहूँखुवृद्वावृमुमुँ ०३) सिंहुँठपृदृहूँदै। श्चिस्मृठेशुछदृहुँड्डिछेर्णा। 3१२3८४३०3० ढड्डिवृदैध्दद्वारेड्डिम्भकूछदहँ छह्रपृहैढधाहैंकुँहुँउप्रप्यूष्टआ छच्चिव्रदै।। झिठेहूँछफूहुँछदै।। धारुट्वेड्डिछध्दहैछर्थिद्रदैश्यकृड्डे छहतूहुँसुंहैड्डिर्देमुँटुपृहूँ २3१33 ०८हुँछेछे०हि८1ड़े८३छ० तुले हाद्घाहूँठेएब्रदृष्ठप्रहूँपुहूँ हुँडढशाधदैटादृब्धस्मृछंहन्न) ८3339००८73०33८7३ ०3०-हूँड्डिहूँ८७हुँछ०द४3कं०3 [हुँदै :(1१6८1९३८11०६1टे०11)छद्र०डूबूदूँ टाहुँछैछेम्भह्र (ब्ददृछदृझूव्रष्टदूँपृर्णमृद्रव्र) द्रनुदूँट्ठछेहँत्रठदृदृहूँदैछद्विप्रदैग्धकिंहूँहपृद्र आमुँढआछदृकृह्रशूअ धहँटुछेछेद्रहुदृर्थिठौआहुँ।। छप्रछुपृड्डढआव्रछंदृखुकूशब्धहुँ ढक्योंठहुँड्डिर्वठेध्येछू ०3८१०८13०८3८1८१३ ध्यहूँदृगृठेष्टष्टआद्रढहपृडाड्डिपृर्दठेछुर्ण फ्लूद्विआर्टज्यमृ ष्ठप्यूफुन्र्वीआट्वें।। 1१01)' प्रातांत्३ह ८1१ (दृम्भदैम्हाग्रडखहूँ ढशुवृद्रदैम्भगुढकुँज्यहुँद्देहन्नड्डिम्भहुँ: छत्युफुन्ठीदृकृशुहुँ।। ग्रग्रछंफशुष्टादृदृधव्रष्टङ्ककुँहुँ धाहूँदृ रा हैं प्याहैं।।आ०हेहूँ००3त्युज्य3(7३०३०3८1९३3ठी८७त्रुड्डे।। 3०३ दृपृदैद्रढआद्यछप्रहड्डाद्वा/ड्डि (व्रहैंहैष्टप्यूछुछहैंट्ठेउप्रढड्डाझुप्राब्धट्वें ष्टछव्रहूँदृपृदैम्हेंदैठी।। (ज्ञव्रहूँऊंठउब्रग्राड्डिहूँ आहूँदृपृदैद्रड्डिद्ददृ। र्ण हष्टाहूँठेर्णणुस्थ्य 33८[३०फ्लूड्डिहूँ८7दृश3ड्डि3८३।छ०। हुँझरुपृहूँदै।। ०दृ८[3।०पृगृ०३०33०पृ।०दृ73हुँ दृफुछट्वेदैम्भकुहुँ उट्ठाधाग्रप्रआशुक्लदृ। छनुनुहूँबुदैटा। छढपृठेफदृव्रत्रहैउप्नढन्धु। ष्टक्योंड्डिदूँ (ष्टद्घाहूँद्रदृष्ठकृड्डिर्वठेरुहूँ ०छ०।८3च्चिप्रा3[दु।३3। क्लहुँछूआवृ आहूँदृगृदै।ड्डि3।१ड्डिदै८3]००हुँ(3०ध्या जिस 6८73०। ०।०छू। छआड्डि [दुप्याट्ठोंप्न क्तिठेकुँदृरूट्टे। आघकुर्णाहूँ ०दृ१त्राहूँ८730३००3००33रा/३ ८3०3 गिष्टदृछूद्यस्त्रछड्डिदैग्रहुँ ०८३टुढ८पृ13१हूँ८हूँ०0२3हुँ।। ८द्वाहुँ००द्र3०३०८छु९७००८ड्स8०हूँ3३र्द्ध ८१०3 ८खें०0द्र33०3८73००333हूँड्डि3०360गृ३रुछे ००3। क्षाग्यहूँच्चि। दैद्धड्डेस्मृन्तुप्रारन्नद्र ढदृपृव्रधहूँटब्रदृस्मृदृपृकुँहूँढब्जीकूँ ब्धहूँछदृछध्यछदृड्डाशुछआठेतेंज्यढआढछद्रग्रदै। ०दृ०ड्डे र्ण323८०33।क्षु)।वी०3डाहूँ००7।हूँ।०दृ।०आ) 33१८३ छस्यहैदृगृहुंश्चिट्टव्रदृझाट्वें ड्डिर्णरुछव्रहूँक्षिठीआहुहुँ।। 3८०3८० छध्याहैंज्यहुँ छव्यादैध्यखदृहूँ।। आण्डिदैश्चहूँपृड्डिछे औ।। ष्ठम्नर्णकुग्रठेदृपृञ्ज) र्डीठेठेस्थ "उदृठेदृछछध्यढध्यादै ०३ ००८३०३८33०९3५५३ हूँदैडधाजणुष्टशहूँहूँ।। हूँब्धपूठढदृ) बूहूँ।। . 3 ०? हैहूँछहूँहुँछआंक्याक्लिंकृहुँ ड्डिदैर्णचिंहपृछ ०। ३3)।। (टुणुहूँठेहाँड्डेर्ण हूँर्णद्रध्दन्नव्रष्टड्डिव्रदृक्रम्रदृड्डे ०८7४.।। १310३ आर्णश्चिआदूँआहुँ।। 0च्चे३3३6ब्धद्र००73। शा।। छङ्कहूँढब्धग्रश्चदृऱद्रकृ।। उड्डेन्धुहुँडहूँज्जआछशश्या। ८१1३४0३ क्लिंहुँछदृपृद्रदैड्डी प्यूध्यर्दक्केड्डीआछेधहँध्दकृहैंढज्यग्र ०073।। सं००प्रायहां ०3३३०3०3८३४3०१३ ० ८77३1न्धु३गा३०व्र9 ०व्रड्डि०८13हूँ९3३3०हुँ।।(०दृ। ०२७) ०ब्ध3८3ट्विड्डि3८८णु३इ7३०दृहूँ००र्द३।८७३८1० ०3 ०2९36८७33३।। ८3दृकू०आ०3।दृ7१13।०7)८बुहूँ)।रु३ट्वें म्भहुँजूद्रष्टट्ठढत्युशैस्मृद्र (2घा11श्या1छा१हैड्डि०३०3 र्ण छरुहुग्रंज्यव्रहूँत्रच्चिठीआट्वें।। ८७930) दृझुढखाश्चदै। (४१1८३1००८५३ रु7ह्र।६।४दृ०००।०२33०3त्र८3८३3शू3।२३हुँ म्भष्ठदृ रुठ्ठाहूँष्टधाठेछदृ ढप्यूत्रुड्डेस्मृआहुँ छक्षहँढरूद्रध्यदैइ दन्नशूछेम्पाद्यहूँहूँ ष्ठभ्यट्टदृप्यूधाहैड्डिण्डिड्डिग्रटेडा प्याहँड्डेठशछ छूहूँणप्रहूँ८ड़र्मि०८3।००(73ढ०3ड्डि८५वृ1८।3हूँदृ८31२3ट्वें।। (दृदैण्डकुँअताहैं ट्विध्यबूहैंश्वदैश्यद्रव्रहुँछज्यअछैदृट्टेदृकृव्वदृड्डे (त्माश्यादृश्वीश्यदृगुछंडर्ण ढङ्कछंध्दबैछएट्विहँब्रध्यठेड्डिठेढटश्चश्रं शिंनुब्दर्खद्र ०३ (ड्डेर्धागृर्धा ०8। दृब्रप्रद्वर्वहैढाब्रष्ठिस्मृ रुध्यहूँव्रसिंठीआहुँ।। क्कोढङ्कहपृव्रश्यपृहुँ (दृ1।।:८पृमृ५८ट्वें[:क्षु3।। 33०३ षत्रहैच्चोंग्धहुँस्यड्डि नुनुहैहुँपृ दैहैद्रप्नदृहैआग्रडग्रह्वादैभूव्रड 3००1८ड्डीकुँ८३33०दृदृ7ड्डि५3दृ7३ ठप्रछकुँशौस्मृदैहुँआहुँ ढकूदृन्व्रड्डिठेहुँर्थाआहुँ।। ध्ददृदैद्रष्टडूछंश्चठेतैट्टर्दे: दृत्साड्डहूँदैदै ०८दृ1०८४3०/हँ०3हुँर्णा। ८3१3७32८३८31९७००3८४3००८४3 ८७33 (दृगृच्चेधाद्रड्डेदेहूँ) ड्डिदैओं।। र्णद्दष्टछर्णछज्यउप्रहूँद्रहूँटू र्थड्डेछशाहैंक्षिडहुँ ध्यहुँज्जदूँहैदृन्नग्र) ०<३6००3ढ2७छि०31दै ढक्षुठेहैट्वेंकुध्यहुँ।। टदृहैदृश्चहुहुँम्हाछादृदृफुप्राइट्ठहूँ। ढधाग्रढहपृड्डिईहुँ ढाध्येदृब्र) ढर्वष्टिदृधाष्टर्दीछकुँहूँमृकुठी आर्का। ७रिराजिय८द्ध (त्रग्रहुपृनुइब्रहूँहुँडादृट्टेदृ 39 (ड्डिदैद्रड्डिठेआऊँप्र ०८३८७०3०१८दृ1ध्दन्न३3हूँ८०ड्डि3०3द्य3इहै त्युआट्टठ हूँहूँशुअउन्नत्ठेड्डिठेब्धड्डी। ९०प्रप्राष्ट्रल२ल क्षुब्रठ्ठाहँपृज्यहुँ।। आआहैंद्दट्ठहूँदृआड्डिहूँ ०८३८७०3०१ आत्रुदुर्वीन्धुज्ञ 83८3०03०१13३3।। ०८५3८3०33०3७३ ड्डिहूँड्डिज्यक्चप्रआहुँआहींहुँपृ ०००333०कुँ33०००। ढड्डिछंहैझद्रुरोंरुभ्यव्र र्णढढपृआहुँ ढस्मृन्तीड्डिहैशाठदृग्रग्रंव्र ष्ठछष्टलैहँजुप्रआऊँ र्णद्रीआट्वेंखुह्माकुँहूँ ष्टप्यूड्डिदैदृ। दीछट्वें (रुठध्यखा टूक्षुभ्यप्लो।। ८3133८73 ढदृपृद्रदृछूशुहूँअपृ) खट्ठस्यहैष्ठड्डिश्याहुँ र्थादृड्डेव्रढलैहैंउछशुहैदृहूँ ढस्मृग्रदृबैहूँपृहूँर्था आहुँ।। क्यूँआहैब्धट्वें ०3८0९3००३33३। ०८3।०८1८गृव्रदै।3।८7णु८13हुँ0३ रुठ्ठाहूँरुन्धद्रठेछहूढफुड्डिदै क्षुआदृहुँ।। उन्धुढदृड्डाढछश्चहँआहछेपृदृहूँञ्जहुँदृ य९७१८हि७ ढाणु>८च्चि(3ङ्क३[ड्डे०3०कुँ१3००7)<३।)0ट्टे रुइफूहुँदृपृर्णा। (दृदैध्दढकुँवृस्यदृ) ढध्यहँपृष्टहींड्डि।। ध्यठद्रदैढम्भड्डास्मृदृक्तिठीदैइ ०८०13००3९३०८३।०है८3ध्याड्डि3।छै१333१3(ढ८)००3) ०३ ढस्मृअछेदूँहूँआर्द्ध।। ८१०८3०3३ ओढत्युद्रदैडक्षुछद्रदृहूँ एटि: ष्ठङ्कस्मृद्रणुग्राफुठहुँ ढफुत्रुशुआहुँ।। ८731३८3०33 ०३ ठहँग्राआर्द्धछड्डेनीहूँआठे शर्दीद्रस्थादृस्यद्रम्रशाड्डिहँ) है स्मृश्यहैदृछदृ पृड्डिदैहढन्धुढुड्डिप्रशांहैछकुँआहुँ।। ३०3 आछदृड्डि। ०0730३3८कूँमिन्तु३गा३ [ट्वें36०ट्ठ॰१03ऊँ।। ब्धकैदृदृदृन्नेर्णहैंब्धऊँ सलप्र०८मीसों थैकैहैंब्धक्लिंर्द्ध नुम्रट्ठरुइस्मृछहूँहँदैआहुँ ब्धहैधाहैत्युप्राकुँहूँ 3८३1८७३। ००3० हूँक्कीछदैद्रणुग्रा। आहैधाहैंशूद्रश्याड्डि ढडूशुछअदूँ ष्टणुमुँदुदैदृपृर्षाब्धहुँ।। दृकुँहूँझुठाहपृऊँहैम्भइब्धउं ०३3८ ८3८3।८०ड़े१८3ज्यत्र८द्र०3०3।८शुआढ८दृ॰दृपृ८31 अड्डे।।
  4. 4. हैं दो क्या (श्वाहूँखठद्रव्रप्रमृधड्डेढणहुशाछढस्मृदृछुहुँरुहूँ फक्षाशुदृनृ ज्यटेहूहुँ उप्रछट्टीश्यर्णठीआहुँ।। ढधादैपृढर्वमृहुँपूपुपृ) ढध्यबूदृगृज्यदैच्चिपृशुप्ररुछेद्दस्त्रद्रर्थिअर्द्ध।। ८९७१1०८31१५३ ढड्डिहूँदृश्वकैड्डिफैश्चहुँ।। ज्यछदैढज्यल्जिध्दट्ठेद्रनुधाष्ठधाहुँ 2230 कींष्टीक्यूँहब्रहैबैत्ढआठरुपृदृकुँहूँ ढब्बग्धप्नदैश्याआछं १1०८९1८११०३ छंहुँव्रद्ररुपृद्रज्यदैर्णहुँहैज्यदृहुँ।। 1110 1१01)' ८31८)' ०१०८1७०२3२1८३४८१३ (ग्रंद्रआइर्वीकूअप्यूबैहुट्ठहैड जिसे ढध्यदृपृपृपृज्यदैड्डिड्डक्यूँलोंर्दढदृड्डादब्रन्नटुठी आंखी। हींहैंहँश्चिड्डग्रहँम्भहुँश्याठाढहैं।। ढध्याहूह्रन्नद्र हींडूहूँ शैशिड्डिरुमैंहूँदैहूँव्रछनुप्नठेज्यहुं। क्या ००० दृहुछादृदृभूशूआढदृदृर्णदैहूँन्) र्वाठेहँरुछद्रक्रदृज्यध्दछेदृकृआछ [हुँ1हुछ०ज्व3३ड्डि3०3०हूँ८ड्डि३८३१२3१ठी२३ड्डी। ढआजुपृगृदृधादृगृआहुँ ०३333 (शुर्णहुँ ८१3० खड्डेणीशुध्दन्नदृछभिबैशुड्डि। हँत्रआहूँढखनुठेछहूँढधाछूआहुँ १५७३ ध्याछदृक्यूँर्देड्डिबैर्णा। छअदृब्लैढर्वाध्दछेहैदृगुपृपृद्रधुदृव्र। अर्द्ध खम्मङ्कछदृछेच्चिक्कीहुँ छछूढद्दन्नप्रअर्देक्केर्थिष्टाशूरुन्नमृहूँपृ [कुणी छदृधदृआहुँ 33०३०३ 0३०3००८३6०। रुड्डेआवृधादृपृदैरुब्रड्डे खनुत्रकुढआदृज्यहुँ: (शाहूँपृम्भ (दृन्नामिछंदैदृक्कीआहुँ अंदृट्ठदैढज्यव्रदैढर्वीहुँ ड्डिद्देशाद्र ५33३३ र्थड्डिकुँ चिंब्रब्धर्द" ल्याशेदृश्र्वहैंड्डिट्विदृकैहैं. रुग्रनुहाँउझशुहैशुहैपृकृ रुधाढस्मृम्रक्षकृहैढष्टड्डारुटप्रार्थिछद्विन्तुग्रइ शू३८0३५००3८८7८द्भु८1ज्यहुँ।। णिष्ठध्यार्दीर्णरुन्व्रज्यहै। दृद्रशादैहुँ क्यूँक्रि८८फू०3८३मुँकु3००आ7व्र3 ०3०८1०८३ र्थिशुठीआहुँ।। ०दृ1।००733५८3रु)3८७०झू3।पृद्र)6०हँ_ ८1०3।। ८७८१ ढम्भसृपृबुआदैआर्ट आत्रछश्यटत्रदृग्रछूर्ण क्षा०ट्ठ383ड्डि०3००3।१३०कुँ८दृ३ड्डि3२३हुँ।। छशुभिश्चाहूँमृह्माअफुद्रन्ति आछदेढम्भड्डाज्याअ ढध्याहूँशुअढडूप्यूप्रा स्मृसुंअझुग्रडछुअदृहूँ उप्रखूत्रछशुद्रतीं ड्डिभिड़ेआहँढकुँशुद्रा ८००3र्ता1(व्र33०३८३००८३।८प्रत्र3 छछढअदृब्रड्डिदै।। श्चिर्टठेहूँड्डिदै।। दृपृएँड्डिहूँध्यढड्डिअध्दद्रदृशुछ ' ,झ ! ट्वे 1 13 हैं " छा … / ,. है 1 .. ढङ्कशुग्रड्डिछेहूँपृठीध्यट्वें।। रुठ्ठाहूँढछप्रठेर्णआहुँ ०८७११ जुज्यदैध्यहूँदृत्रिऊँट्वे ०८७: -८311१८3 ०3०1८८१303०८९१ ज्यव्रहूँशुठीछव्रहुँ।। त्माठेम्भदैपृटुश्चट्वें छधादृनृफुपृज्यठे ड्डिज्यहूँ८२3०3०म्भणि०४1ट्ठी।८[३८3न्नारै3[हुँ3३3ड्डी। ०३८ रुष्टठेड़ेदृझुद्रहआहुँ छदृछढध्याष्ठच्चारैड्डेहुँ च्चेष्टढरुव्रत्रुद्रदैम्पाहुँ शदृशुग्राढाव्रत्रद्रर्देद्रइत्रक्कदैआखड़ेन्तुव्रद्रछत्रप्राड्डिदूँ (7३५3००3 बुदैढट्ठाट्टीध्दढर्थिप्नदैझच्चीशुड्डि। धाक्लहैदृरूठहैदृद्रदृआठड़ेर्षा आहुँ।। रुत्रद्घाहूँष्टक्योंघदृब्धट्वें रुगुज्यहूँङ्कग्रदैझुठाटा ८दृ1।['८१दृ८हंद्र[८७ड़८श०००३ट्वें०छं []र्णतीर्णए७सी ढदृछूज्यद्रहूँशुथीआऊँ।। ०९७६३८३ आखारुहैशुठपृदृधदृ एष्णुहुँडशुशछहपृद्रइकृहैंहूँदीआहुँ।। ढक्ष्यदृनृहौरुद्यहैउछढबुओंदृट्ठदैढटश्रअग्रहै 6००3०१ ०३3०८13। ८७०3०००१] आतींर्दक्केरुग्रद्रलेंधड्डेदैखरुत्रब्रकृहै ५1 ५ दृष्ट ०१००3३१३८१3८३०१3८५३ ढध्दछूत्साहूँदृहुडाआड्डी। र्द्धग्रम्पूदैष्टआद्रर्देढर्दीहूँगृ ०दृ१३:०दृन्नणु3८३:(61{01१0प्न 01८ ^361३1५11गृ0पिं म्भछर्देछधाहूतुढधाग्रदैज्यप्रद्रदै जि०पीलथजी००6यजजी)र्ण एटि' ढणाहुशाकृ हूँमुँकुठीज्यहुँ।। दस्यहूँढरुव्रप्रहैंछड्डेऊव्रट्वें ००८०७९3) क्षुरुछैहुँ ०८73३४०३ हड़रुब्रद्रव्रदैहट्ठछड्डिद्देदृरूछऊँढस्मृणहैंच्चे हूँष्ठीश्चहुँ।। रुठ्ठाहूँढधछैर्ण ढज्यक्ताष्णदैछदैगृश्याहुँ 3००3०3 ५०००४८03३३११८३335 झदृस्मृद्रष्टाप्नछहैंकूब्जी ८८7१11११1८०3३30३ च्चेश्चहुंहैइथीज्यहुँ।। छडूग्ररुग्रदृछकुँत्रदै 3०८१1हुँध्दद्र७हूँ3०६ड़े छर्दछूछहुँदृ) ष्ठप्यूहुँपृन्धुरुछेन्तुछगाड्डे ००3हँ३८६3मृख०३ठी०८प्न०।०3हैंट्टे।1 घापृबुठपृदृर्णदै। ८८५१3। ०८773८३।ड्डि०3ड्डि८३३1बै००५हूँ3८3]८०८०००।। ।। ८ ३ ५ हुँ ३३ ड़ ५' " ' 831३. 131९१३1३ 1१' ३ड्डे ५ - 11013813 ड्ड ! . नु. ८५ 3 है हैं 3 . - . गृ : ' फि' ७ '_ 3 ५ … ८ हाँज्जडानं 1 ५८ ०३1०हुँर्ण८ल्यत्त3क्यूँ1८दु८७८हुँ०० शौ छध्यचिं पृ।<३ड्डिहूँ०००1हु१हत्र3८०>३१दृच्चि।। । जैठ८८3०३र्शिशै हिकै ((3००८।८कै36हिं1.)

×