O slideshow foi denunciado.
Utilizamos seu perfil e dados de atividades no LinkedIn para personalizar e exibir anúncios mais relevantes. Altere suas preferências de anúncios quando desejar.

Patliavadana January 2017

An e magazine cum journal from Patli Urbanocrats on Social Issues, work, entrepreneurship to promote new writers. Patliavadana also covers the section of social news which is emphasized on social worker and their good work in the society.

  • Entre para ver os comentários

Patliavadana January 2017

  1. 1. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 1
  2. 2. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 1 Avinash Kumar Sohum Krishna Raj Saurabh Mithilesh Kr. Mishra THE TEAM Patliavadana, A Quarterly E-magazine cum journal on Social Issues, Edition January 2017 Patli Urbanocrats (Trust), Reg. No. 30559/2013 PatliUrban @PatliUrban contactus@patliurbanocrats.org www.patliurbanocrats.org Disclaimer: The organization is not responsible about any article published in e-magazine. The articles are personal view of the writer. This is an information based e-magazine cum journal published & circulated by Patli Urbanocrats (Trust). भारत की शिक्षा और समाज - ऄंकुर पाण्डेय चम्पारण सत्याग्रह और ईद्यशमकता - ऄशवनाि कुमार सोिल न्यूज़ Prerna Yatra - Journey to Learn from Untold Heroes – Shailabi Gautam & Avinash Kumar KAP Agri Products: Need of Agriculture Based States – Avinash Kumar RURAL India : Government, NGOs & People – Arpit Garg School Dental Health Program : Need of Hour - Vivek Kumar & Vijayshree Raj Swatantra Campus Corner Please send your feedback to our email: contactus@patliurbanocrats.org You can donate to us if you like our effort.
  3. 3. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 2 संपादकीय पाटलीऄवदना के पाठकों का पाटली ऄबबनोक्रैट्स टीम के तरफ से गणतन्र ददवस की िुभकामनाएँ ! कुछ कारणों से हम अपके सामने नया ऄंक प्रस्तुत कर सकने में ऄक्षम रहे, मगर पुनः हम ऄपने चौथे ऄंक के साथ अप सब के सामने हम प्रस्तुत है। आस बीच में आस इ-पशरका के भशवष्य के उपर हमारी टीम के बीच और ऄन्य िुभचचतकों के साथ काफी सारी बातें होती रही, पररणाम स्वरूप हम भारत के गणतन्र ददवस के िुभ ऄवसर पर ऄपने पशरका को एक नए कलेवर में अप सबके सामने ला रहे है। यह पशरका एक मुक्त-पशरका है शजसमें हम सामाशजक कायब के साथ शवज्ञान एवं ऄन्य शवषयों को भी साथ ले कर चल रहे है, शजसका एक मार ईद्देश्य है दक सारे लोग एक दूसरे से लाभाशन्वत हो सके एवं शवशभन्न क्षेर में हो रहे नए कायों को जान सके। पाटली-ऄवदना हमारा एक छोटा सा प्रयास है आस जगत में कुछ हम भी दे सके। क्योंदक हम भारत के एक प्राचीन कथ्य “सम्पूणब शवश्व हमारा पररवार है” में शवश्वास करते है। शवगत सालों में हमारी भारत सरकार ने ईद्यशमकता पर बहुत ही ध्यान ददया हुअ शजसका मुख्य मकसद स्वरोजगार को बढ़ावा देना है। क्योंदक शबना स्वरोजगार को बढ़ाए हमारे देि की प्रशत व्यशक्त अय कभी भी अगे नहीं बढ़ सकती। यह शसफब हमें बढ़ने का ही मौका नहीं देता, बशकक दूसरों को भी रोजगार प्रदान करते हुए हमारे ऄथबव्यवस्था को भी सुदृढ़ करता है। ऄतः अज के समय में जरूरी है, स्वरोजगार को ऄपनाने की जो हमारे सरकार की Startup India नीशत के ऄनुरूप है। देखा गया है दक स्वरोजगार के क्षेर में देि के कइ क्षेर पीछे है वही गुजरात जैसे राज्य स्वरोजगार के कारण एक शनत्य नयी कहानी गढ़ रहे। ये न शसफब खुद को रोजगार दे रहे वरन ऄपने साथ ऄनेकों को भी रोजगार दे रहे हैं। अज के समय में जरूरत है, आन सब से सीख खुद कुछ करने की, न दक दूसरों की अलोचना करने की, जो ऄक्सर राजनैशतक कारणों से की जाती रही है। तो जरूरत है आस राजनीशत से उपर ईठने की और एक दूसरे का हाथ पकड़ कुछ करने की। आस गणतन्र ददवस के ऄवसर पर देि के शलए आससे बड़ा और कुछ न होगा। धन्यवाद!
  4. 4. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 3 Editorial Happy Republic Day to the readers of Patliavadana from team of Patli Urbanocrats! Due to few reasons we are unable to produce new editions in front of you, but again we are back with our 4th edition. In between this period we had a talk in between our team and well wishers about the future of this e-magazine cum journal, which result in to the new taste of our Patliavadana on the occasion of this Republic Day. This magazine is an open magazine, in which we are taking social work as well as science together with other topics, which aim towards getting benefitted from each other as well as can know about work in other sectors too. Patliavadana is a small effort of ours to give something to this society. As we believe in an ancient saying of India that “Whole World is Our Family” In these years our Indian government is working on Entrepreneurship whose main motive is to grow self-employment among our people. Because without the growth of self- employment, per capita income can’t be better. It doesn’t only give chance to grow but help the economy by providing jobs to other. So, it is the need of time to adopt self-employment which is also in accordance with Startup India Policy of government. It is clearly visible that many areas are lacking in the field of self-employment while state like Gujarat is creat- ing a new story day by day. They are not only providing the employment to themselves but they are also providing the employment to other. So it is the requirement of time to learn from it, rather than criticizing which is very common due to political reason. So it is need to come above this politics and do something while holding the hand of each together. On this Republic Day, nothing will be better than this for our country. Thanks!
  5. 5. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 4 Prerna Yatra - Journey to Learn from Untold Heroes - Shailabi Gautam & Avinash Kumar E ntrepreneurship and Gujarat it’s like they are supplement of each together. In this journey of entre- preneurship very few know about the small entrepreneur in any place, what we know about are the big companies like Reliance or Adani. To introduce the world with those un- told stories of Entrepreneurship, Nitin Tailor (Founder CEO of Serve Happiness Founda- tion) of Bharuch, Gujarat keep organizing various Journey with title Prerna Yatra. Nitin Tailor has completed his Masters in Technology from IIIT, Bengaluru and during that time only he has represented India through his research work in Sweden. He finds happiness whilst working towards bringing about a positive change in the society at large. In the past he has been invited to become a founding member of World Happiness Consortium under Unit- ed Nations. He is also a TEDx speaker with recipient of Late N Ramarao Gold Medal award as well as the Entrepreneur Of The Year award given by IIIT Bangalore (in July 2014). Other accolades include being honored by Shree Lajpatray Verma award in 2014 for his social projects. Later he has started Serve Happiness Foundation aimed at building and improving grass root communities by connecting passionate individuals to them. It is a registered non-profit organization with an international mission to implore, invite and inspire youth to work towards nation building. We aim to direct today's youth towards a platform specific to their interest. Our approach is to take youth on an inspirational jour- ney of awakening and help them foster relationships by building network along the spectrum of role mod- els working in the ecosystem. Sabarmati Prerna Yatra The river Sabarmati has been historically significant to the people of the world's largest democracy viz. India. Gandhi ji had spent a considerable amount of time (1917-1930) along its banks at Sabarmati Ash- ram. It was there that he developed the Gandhian concept of the Charkha (a symbol of self- entrepreneurship), which alone, he believed could help the nation protect its bio-diversity and provide sus- tenance to the poorest of the poor.
  6. 6. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 5 In line with the Mahatma's vision as above, Serve Happiness Foundation takes pride in announcing the launch of a one-of-a-kind revolutionary 4 days yatra - Sabarmati Prerna Yatra - a journey to evolve and inspire the youth by connecting them with the real heroes of Sabarmati region who are effortlessly for improving rural development, health, agriculture, dairy technology, handicraft, education, women empowerment. Narmada Prerna Yatra It is one of his initiatives - an inspirational journey of its kind to inspire youth by connecting them with real life heroes from varied sectors like health, education, agriculture etc. It couldn't have been a more honorable moment for Narmada Prerna Yatra (Gramin Yuva Edition) Report to be launched and graced by the esteemed signature of Dr. APJ Abdul Kalam during the inaugural ceremony of the Social Incubation Centre of our knowledge partner AASHRAY Foundation (which is into promoting social enterprises) at EDI, Gandhinagar on 20th June, 2015. He was pleased to know about Narmada Prerna Yatra and rightly emphasized on rural development through entre- preneurship. In line with the same, Serve Happi- ness Foundation is trying to inspire rural youth for setting up small enter- prises in the fields of dairy technolo- gy, agriculture, food processing in their village to generate employment and development through its flagship product - Narmada Prerna Yatra. They are also associated with Centre For Entrepreneurship Development (CED), Government of Gujarat as our Knowledge Partner towards train- ing of rural youth of the Bharuch-Narmada region for entrepreneurial activities.
  7. 7. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 6 Tapi Prerna Yatra This is next journey of Nitin Tailor to get learning from society and untold heroes to be launched soon. We believe, such journey of Nitin Tailor would inculcate happiness in the youth as they stride along to spread the light of joy in the society and the world at large! We also hope for more such journey from differ- ent parts of India which can give some learning to our youth.
  8. 8. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 7 Food Processing: Need of Agriculture Based States - Avinash Kumar From our childhood, we have learnt that India is an agriculture based country. The livelihood of maximum people are based on agriculture being as farmer or as labor in the sector. Despite of huge production of different crops, vegetables and fruits; the farmers income is getting re- duced. Even the growing price of seeds, fertilizers also play an important role in this. The farmers of the states are also affected by political negligence which comes in the form of minimum support price or other government schemes. In one way if we will talk about the government and its relation with farmers then it is only limited to the big farmers (jamindaar), who can easily get the government support, subsidies and can get benefitted out of it. While marginalized farmers are still fighting with their fate due to low grade seeds, their urgent need to earn for their stomach, costly & low grade fertilizers, pesticides, unavailability of machineries, technical knowledge, processing and storage unit etc. Even at a point, middle men play a very good role to harass them economically. This is not a story of a single state, but story of every backward state in India, whose economy is mainly de- pendent upon agriculture. Food Processing is one of agri based industry which can support these marginal- ized farmers as well as large one but very few people are interested in this sector, and those who are interest- ed don’t want to experiment with the crops/ vegetables/ fruits available in local, they always insist on getting special item produced by farmers of special quality which is again where maximum of farmers are unsuccess- ful, resulting in to reduced income. Some these selective production also result in to damage to farmers for which one of the famous example is Potato Production for PEPSICO by farmers which led to destroy their farm produce as the potato was not as per quality mentioned by PEPSICO. Despite of challenges in this sector, this is one of the area which can do a lot for agriculture based popula- tion. Surprisingly some youth from Bihar have taken it as a challenge to give this industry a boost and trying out to present new range of products through their firms KAP Agri Products. They are working on small pro- duction unit which can cater the need of an area. Later they have plan for expansion. In current trend, what is found that many other organizations are working in the field of agriculture, but no one was taking dare to challenge the big brands and push Bihar on the face of Food Processing in India. (Avinash Kumar is representative of Patliavadana)
  9. 9. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 8 RURAL India: Government, NGOs & People - Arpit Garg On 15th August 2015, we graciously cele- brated our 69th year of independence. The tremendous amount of achievement and progress which we have made in the past decades in every field be it science & technology, defense, infrastructure or medicine is extremely laudable. As the World Bank quotes, “Over the past six and a half decades India has transformed itself through agricultural revolution from being dependent on grain imports to becoming one of the major food exporters in the world”. In the last quarter of the year 2014, we replaced China as the fastest growing economy of the world. Now, before you jump onto the conclusion about the bright future of our economy and us utilizing the maximum potential of our resources, let us look at the other side of the story. The current GDP of India stands at $2.308 trillion and makes it 7th largest nominal GDP of the world. However, it is noteworthy to see that the contribution of the rural sector of India is not as per the expectations. Rural India houses around 69% of the total population while it merely contributes to about 32% in the Indian GDP. Agreed, due to technological limitations, unemployment, and poor infrastructure we cannot expect rural India to contribute in par with the urban India. But, it is certainly a thing to worry about for a country which is poised to become the largest economy of the world in a few years. If we shed some light on the present condi- tion at the state level, we see that Maharashtra and Uttar Pradesh houses the highest urban population in terms of percentage share with 13.5% and 11.8% respectively and are also tagged as the highest percentage contributors in the economy of the country at about 14.1% and 8.46% of the Indian GDP respectively. If we compare this situation with states like Bihar or Punjab, we see that for these two states, they have one of the highest percentage of rural population in India, but are contributing very less to the GDP of our country. Bihar houses about 11.1% of the total rural population of India but it lags behind the contribution in the Indian GDP which is at present about 3.72% only. But, the situation isn’t as gloomy as it looks. Slowly and steadily things are picking up and we are now on the right track to bring the contribution from rural India at par with the ur- ban population.
  10. 10. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 9 Things are rapidly changing and with the present speed of rural empowerment, it is safer to assume that we may soon see a rapid rise in the development of rural population and make them an important contributor in the Indian economy. There are a lot of Rural Empowerment programs currently happening all over India that are taking care of lots of areas of development like Education, Health and Medicine and providing employment to people belonging to rural background. For instance, in Bihar there is an organization called SEEKHO India started by a University of Pennsylvania graduate Zubin Sharma. They have provided free education to over 4000 people since 2013 through local people. They have trained local people to become teachers and provide elementary education to the people from all the age groups. With this education, people may find some form of employment at local shops or can help their children to learn. Another good instance of Rural Empowerment in Bihar can be seen from the initiatives of project JEEVIKA started by the Government of Bihar which is also supported by World Bank. Their objective is to enhance the income of the people through sustainable methods and livelihoods and provide social protection including food security and help rural poor to bring in a more effective voice for their concerns. The project covers a large base of 500,000 families of more than 4000 villages which is really commendable. The project links people with several initiatives in the areas of agriculture, dairy products and micro financing for the poor. Government has signed MOUs with the banks for opening of the bank accounts for the rural poor and providing them with the credit they need. The project also covers a very important aspect of cleanliness. This project trains people on constructing toilets in their homes and maintaining cleanliness around. There are volunteers too assigned for this task! With the kind of initiatives happening around India and especially Bihar, we can surely say that soon we may see rural population contributing a lot to the economy. We can see from the statistics that it has started to give positive results. Bihar has been ranked consistently as number one state in terms of annual percentage GDP growth since 2010. With a lot of several others initiatives and projects coming up, we are positive for the growth of rural population in the years to come. (The writer is a mechanical engineer working in multinational IT-company in Gurgaon. During college time, he was associated with Juvenile care, an NGO working for the devel- opment of underprivileged children. )
  11. 11. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 10 School Dental Health Programs: Need of Hour - Vivek Kumar & Vijayashree Raj Swatantra S chool health is an important branch of community health. It is an economical and powerful means of rising community health in future generations. Towards the end of the 19th century, William Fisher, A dentist of England was so concerned by the high caries experience and lack of treatment in the child population that he devoted much time campaigning for compulsory inspection and treatment of children in schools. On July 23rd 1898, School dentists society was formed in London. The beginning of school health service in India dates back to 1909, when for the 1st time medical examination of school children was carried out in Baroda city. In 1960 The Government of India constituted a school health committee, and submitted its report in 1961. Health appraisal is defined as “the process of determining the total health status of the child through such means as health histories, teacher and nurse observations, screening test, and medical, dental and psychologi- cal examination”. Teachers have far more contact with social children than do physicians and dentists. Since teachers are the 1st to realize the any emergency in a school, they should be trained in handling simple emergencies such as 1st aid and care for minor wounds and a basic knowledge about epileptics fits, fainting, etc. A comprehensive school program should be administratively sound, be available to all children, provide the facts about dental care, provide the environment for the development of psychomotor skills necessary for tooth brushing and flossing. The American Dental Association, in its “objectives of a community dental health program”, gives the fol- lowing aims for “A school dental service to help every school child appreciate the importance of a healthy mouth”, “To encourage the observances of dental health practices, including personal care, proper diet and oral habits. (The writer are students of Kalka Dental Col- lege, Meerut—UP )
  12. 12. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 11 Campus Corner The student life is one of the part of our life, which we never forget. When we grow up, then there comes the times we want to again rejoice that life, but very few times we get the chance to rejoice it. Venue: LNMI, Patna Occasion: Alumni Meet, 2017 Date: 15th January, 2017
  13. 13. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 12
  14. 14. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 13
  15. 15. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 14
  16. 16. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 15 भारत की शिक्षा और समाज - ऄंकुर पाण्डेय भारत प्राचीन काल से ऄपने शिक्षा के शलए जाना जाता है और ईस काल में शिक्षा काफी समुन्नत शिखर पर थी। लेदकन समय के साथ आसमें काफी बदलाव हुए और आसमें शगरावट अइ। जब शवदेशियों का भारत में अक्रमण दकया ईस समय ईनलोगों ने ऄपने – ऄपने शहसाब से लोगों को ऄपने काम में और ऄपने लायक बनाने हेतु शिक्षा में बदलाव दकये और भारतीय शिक्षा संक्रशमत हो गयी शजसका प्रभाव अज तक और िायद अने वाली पीदढ़यों पर पड़ता रहेगा। परन्तु स्वतंरता संग्राम और ऄन्य प्रयासों से भारतीय समाज सुधारकों ने आस व्यवस्था को बदलने दक कोशिि भी की परन्तु संभवतः ऄभी भी यह प्रयास पूणब रूप से प्रभावी नहीं है या िायद लोगों ने शवकास के नाम पर नकल करने की भूल करने की अदत डाल ली है शजसका पररणाम अज समाज में प्रत्यक्ष या ऄप्रत्यक्ष रूप से शमलता है और अने वाली पीदढयां भी प्रत्यक्ष या ऄप्रत्यक्ष रूप में प्रभाशवत होती हैं। प्राचीन भारत की शिक्षा ऄध्यात्म पर अधाररत थी शजससे शसफब कोइ साक्षर ही नहीं वरन वह बातों को अत्मसात करता था क्योंदक ईसे धमब से जोड़कर देखा जाता था केवल और के वल धनाजबन के रूप में नहीं देखा जाता था और अज मनुष्य में मनुष्यता का गुण हो न हो वह यदद और के वल पैसे रुपये से समृद्ध है तो वह शिशक्षत समझा जाता है ऄथाबत् पैसा मूल में धमब हो गया और शिक्षा गौण हो गयी और वह भी पैसे पर ही अधाररत दक लोगों की समझ है दक शजस शिक्षण संस्थान में पैसे ऄशधक लगते हैं वही शिक्षा शमलती है ऄन्यर चाहे दकतनी भी ऄशधक शिक्षा शमल जाये यदद पैसे ईसमें कम हों या न हों तब वह बेकार है और तो और लोग शिक्षा को ऄंग्रेजी के माध्यम से जोड़कर देखते हैं और समझते हैं की ऄंग्रेजी शिक्षा यदद है या कोइ ऄंग्रेजी बोल रहा है तब वह शिशक्षत है ऄन्यथा नहीं। और यह सब कारण समाज में एक खतरनाक कैंसर की तरह जड़ों को गहरा करता जा रहा है। प्राचीन काल में शिक्षा को ऄशधक महत्व ददया गया था। भारत शवश्वगुरु कहलाता था। डॉ ऄकटेकर के ऄनुसार “वैददक युग से लेकर ऄब तक भारतवाशसयों के शलये शिक्षा का ऄशभप्राय यह रहा है दक शिक्षा प्रकाि का स्रोत है तथा जीवन के शवशभन्न कायों में यह हमारा मागब अलोदकत करती है।“ शिक्षा के साथ यह मान्यता थी दक जैसे ईजाले से ऄंशधयारा दूर हो जाता है वैसे ही शिक्षा से व्यशक्त का या मानव का संिय और भ्रम अदद दूर हो जाता है। प्राचीन भारतीय शिक्षा को हम ऊग्वेद में देखते हैं दक कैसे वह मानव को ब्रह्मचयब , तप, नीशतवान, साहसी अदद गुणों के शवकास के शलए प्रेररत करता है। ब्रह्मचयब का पालन करना और मन पर शनयंरण रखना सभी शवद्यार्थथयों के शलए चाहे बालक हो या बाशलका दोनों के शलए ऄशनवायब था शजससे ईनके सभी ऄंग प्रत्यंग और बुशद्ध शववेक अदद का ऄनुकू ल शवकास और प्रभाव पड़ता था और ऐसा आसशलए था दक अने वाले समय में ईनको ही समाज की बागडोर संभालनी थी और समाज का शवकास करना था यदद वे कमजोर और शनरीह और लोलुप या कामुक प्रवृशत से प्रेररत हों तब अने वाले समय में सुरशक्षत रहना या समाज को बुराइयों से बचा कर रख पाना िायद ही संभव हो।
  17. 17. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 16 यह समाज में ददख रहा है दक कानून पर कानून बनते जाने के बावजूद लोग संकुशचत शवचारधारा से ही ओत प्रोत हैं। और आसीशलए प्राचीन भारतीय शिक्षा में ब्रह्मचयब और नैशतकता तथा मन पर शनयंरण और गुरुकु लों को समाज से हटाकर रखा गया था दक बालक या बाशलका सामाशजक दृश्यों शजसमें बुरे और ऄच्छे सभी कुछ िाशमल हो से बचा रहे और ईसमें वैसे दकसी गुण का शवकास न हो। जबदक अज बालक या बाशलका दूरदिबन और ऄन्य बहुतेरे माध्यमों से न देखे जाने वाले भी दृश्यों को देखने लगता है और समझने लगता है और दफर प्रयोग करता है शजससे प्रेररत होकर वह ऄपने अप के प्रशत समाज के प्रशत कुछ ऐसा कर जाता है या करता है जो ऄशहत का कारण बनता है। आस तरह के अधुशनक शिक्षा में बालक या बाशलका शसफब कपड़ा पहनने और दकताब कापी सजाने सँवारने और घर से स्कू ल और स्कू ल से घर करने में और टीवी अदद तरह तरह के बेकार के व्यवहार में समय शबता देने वाले ही बन पा रहे हैं ईनकी सोच व्यशक्तगत बन कर रह जाती है ईनके पास समाज और यहाँ तक दक ऄपने माता-शपता के शलए भी समय नहीं हो पाता। जबदक प्राचीन शिक्षा में गुरुजनों की सेवा , ईनका शबछावन लगाना –ईठाना , चरण स्पिब , दातौन लाना अदद बहुत से कमब िाशमल थे जो दक बालक – बाशलकाओं में कूट – कूट कर भर ददए जाते थे तादक अने वाले समय में शिक्षा के बाद ऄहंकार का लेि मार भी न बचे और बालक – बाशलका को जो भी गुरुकुल में शसखाया गया है वह ऄपने घर जाकर भी वैसा ही ऄनुसरण करे और नैशतकता से जीवन यापन करे। लेदकन अज के भौशतक युग में नैशतकता के शवषय में िायद ही कोइ सोचता हो और साथ ही भारतीय समाज में और ऄन्य कौम के लोग अकर बाद में िाशमल हुये शजनकी सभ्यता और संस्कृशत को भारतीयों ने ऄपनाया और सीखा शजससे लोग नक़ल करने में ऄपने संस्कार और संस्कृशत को मूल से ही भूलते शबसरते जा रहे हैं। मध्यकाल में भारत में मुशस्लम राज्य की स्थापना होती है और आस्लामी शिक्षा का प्रसार – प्रचार होना िुरू होता है। जो लोग फारसी जानते थे ईन्हें ही सरकारी कायों के ऄनुरूप समझा जाने लगा। और आस्लामी भाषा ऄरबी – फारसी और ईदूब को शिक्षा का माध्यम बना। मशस्जदें बनायीं गयीं तादक आस्लाम का संरक्षण और प्रचार हो। आस काल में भी नैशतकता बरकरार रही और शिक्षा शनःिुकक दी जाती थी। लेदकन आस समय सनातन धमब की बजाय आस्लामी शिक्षा दी जाने लगी और कु रान पढ़ाया जाने लगा साथ – साथ कानून – व्यवस्था और नीशत – शनयम , गशणत , शवज्ञान अदद की भी शिक्षा होती थी। दफर समय ने साँस ली और िुरू हुअ अधुशनक काल शजसकी नींव इसाइ या ऄंग्रेजी हुकुमत से पड़ी लाडब मैकाले और राजा राममोहन राय के समथबन में 1835 में लाडब बेंरटक ने ऄंग्रेजी भाषा में शिक्षा की िुरुअत का समथबन दकया गया। जनता का झुकाव ज्यादा से ज्यादा ऄंग्रेजी की ओर होने लगा और क्योंदक सरकारी घोषणा यह कर दी गयी थी आस रीशत से पढ़े शलखे लोग ही सरकारी पदों पर शनयुक्त होंगे। आस समय से साक्षरता बढती गयी लेदकन स्तर शगरता गया। लाडब मैकाले शब्ररटि पार्थलयामेन्ट के उपरी सदन (हाईस अफ लार्डसब) का सदस्य था।
  18. 18. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 17 1857 की क्राशन्त के बाद जब 1860 में भारत के िासन को इस्ट आशण्डया कम्पनी से छीनकर रानी शवक्टोररया के ऄधीन दकया गया तब मैकाले को भारत में ऄंग्रेजों के िासन को मजबूत बनाने के शलये अवश्यक नीशतयां सुझाने का महत्वपूणब कायब सौंपा गया था। ईसने सारे देि का भ्रमण दकया। ईसे यह देखकर अश्चयब हुअ दक यहाँ झाडू देने वाला, चमड़ा ईतारने वाला, करघा चलाने वाला, कृ षक, व्यापारी (वैश्य), मंर पढ़ने वाला अदद सभी वणब के लोग ऄपने-ऄपने कमब को बड़ी श्रद्धा से हंसते-गाते कर रहे थे। सारा समाज संबंधों की डोर से बंधा हुअ था। िूद्र भी समाज में दकसी का भाइ, चाचा या दादा था तथा ब्राहमण भी ऐसे ही ररश्तों से बंधा था। बेटी गांव की हुअ करती थी तथा दामाद, मामा अदद ररश्ते गांव के हुअ करते थे। आस प्रकार भारतीय समाज शभन्नता के बीच भी एकता के सूर में बंधा हुअ था। आस समय धार्थमक सम्प्रदायों के बीच भी सौहादबपूणब संबंध था। यह एक ऐशतहाशसक तथ्य है दक 1857 की क्राशन्त में शहन्दू-मुसलमान दोनों ने शमलकर ऄंग्रेजों का शवरोध दकया था। मैकाले को लगा दक जब तक शहन्दू-मुसलमानों के बीच वैमनस्यता नहीं होगी तथा वणब व्यवस्था के ऄन्तगबत संचाशलत समाज की एकता नहीं टूटेगी तब तक भारत पर ऄंग्रेजों का िासन मजबूत नहीं होगा। भारतीय समाज की एकता को नष्ट करने तथा वणाबशश्रत कमब के प्रशत घृणा ईत्पन्न करने के शलए मैकाले ने वतबमान शिक्षा प्रणाली को बनाया। ऄंग्रेजों की आस शिक्षा नीशत का लक्ष्य था - संस्कृत, फारसी तथा लोक भाषाओं के वचबस्व को तोड़कर ऄंग्रेजी का वचबस्व कायम करना। साथ ही सरकार चलाने के शलए देिी ऄंग्रेजों को तैयार करना। आस प्रणाली के जररए वंिानुगत कमब के प्रशत घृणा पैदा करने और परस्पर शवद्वेष फै लाने की भी कोशिि की गइ थी। आसके ऄलावा पशश्चमी सभ्यता एवं जीवन पद्धशत के प्रशत अकषबण पैदा करना भी मैकाले का लक्ष्य था। आन लक्ष्यों को प्राप्त करने में इसाइ शमिनररयों ने भी महत्तवपूणब भूशमका शनभाइ। इसाइ शमिनररयों ने ही सवबप्रथम मैकाले की शिक्षा-नीशत को लागू दकया। मैकाले के िब्दों में: "हमें एक शहन्दुस्थाशनयों का एक ऐसा वगब तैयार करना है जो हम ऄंग्रेज िासकों एवं ईन करोड़ों भारतीयों के बीच दुभाशषये का काम कर सके, शजन पर हम िासन करते हैं। हमें शहन्दुस्थाशनयों का एक ऐसा वगब तैयार करना है, शजनका रंग और रक्त भले ही भारतीय हों लेदकन वह ऄपनी ऄशभरूशच, शवचार, नैशतकता और बौशद्धकता में ऄंग्रेज हों" आस पद्दशत को मैकाले ने सुन्दर प्रबंधन के साथ िुरू दकया। ऄब ऄंग्रेजी के गुलामों की संख्या बढ़ने लगी और जो लोग ऄंग्रेजी नहीं जानते थे वो ऄपने अप को हीन भावना से देखने लगे क्यों ? क्योंदक सरकारी नौकररयों के ठाट ईन्हें दीखते थे ऄपने भाआयों के शजन्होंने ऄंग्रेजी की गुलामी स्वीकार कर ली। और ऐसे गुलामों को ही सरकारी नौकरी की रेवड़ी बटती थी। और अज भी शस्थशत यही है । ऄब अज का समाज और व्यवस्था ऐसी है दक ऄभी भी ऄगर समाज न चेता तो दुबारा िायद प्रत्यक्ष या ऄप्रत्यक्ष रूप से गुलाम बन रहे हैं और शवकास के नाम ऄनाचार और दुराचार करते नजर अ रहे हैं । अज बालक या बाशलका शवद्यालय 5 या 6 घंटे ही रहते हैं और बाकी समय घर पर या समाज में शबताते हैं आसका पररणाम यह होता है दक ईनके कोमल ह्रदय पर और मशस्तष्क पर प्रशतकूल प्रभाव पड़ने लगता है समय से पहले ही वह बुरा – भला समझे शबना ही बहुत से ऐसे काम करता है और वह भी छुपा कर याशन बचपन शजसमें ईसमें झूठ और शछपने – शछपाने वाले गुण का शवकास होना िुरू हो जाता है ।
  19. 19. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 18 दफर वही बालक शजसे बड़ा होकर समाज में महत्वपूणब भूशमका शनभानी है वह संिययुक्त बनता है । जैसा वह देखता है वैसा सीखता जाता है । वह कपड़ा पहनना तो सीख जाता है लेदकन वह जैसे कपड़ों की सफाइ करता है वैसे ही ददमाग की सफाइ नहीं कर पाता है और शजसका पररणाम समाज पर , घर पर , घर के लोगों पर , ईसपर पड़ता है । वह व्यशक्त बड़े पद पर असीन होता है और मन पर शनयंरण न कर पाने और पैसे – रुपये के अगे दकसी और चीज को जैसे दया , संस्कार , सम्मान , अत्मसम्मान अदद को वह नहीं सोचता और एक दागदार व्यशक्त बन जाता है । आससे शजन लोगों को समाज में जहाँ जो संसाधन अने चाशहए थे वे नहीं अते और कु छेक धनाढ्यों तक शसशमत रह जाते हैं । वही व्यशक्त शिक्षक बनता है और चररर का शगरा हुअ होने पर बालक – बाशलकाओं पर ऄपनी कुदृशष्ट डालता है और बहुत से बाशलकाओं और बालकों के जीवन को व्यथब कर देता है । और जब एक शिक्षक ही निा और व्यसनों से शलप्त हो जाये और ऐसा ही समाज में ददखाइ देता है दक लोग ऄपनी शनजी जीवन में कुछ और करते नजर अते हैं और व्यावहाररक जीवन में कु छ और तथा यही लोग शिक्षा देते हैं सत्य , ऄचहसा और न जाने क्या – क्या । लेदकन िायद ईन्हें यह नहीं पता होता दक लोग पढ़ कर कम और देख कर ज्यादा सीखते हैं और जैसा चररर लोग ईच्च पदों पर असीन या ऄपने से योग्य का देखते हैं ईनका ऄसर जरुर पड़ता है और वैसा ही मन और मशष्तष्क पर प्रशतकू ल या ऄनुकूल प्रभाव पड़ता है । हम ऄपनी पीढ़ी को शवकास के नाम पर बीमार बनाते जा रहे और देखा – देखी में भूल रहे हैं दक रोज बच्चों को शवद्यालय में भोजन के ऄलावा चाहे वह गरीब ही क्यों न हो रोज – रोज कुछ न कु छ रुपये बच्चों को माता – शपता देते हैं ऄब बच्चा तो बच्चा ठहरा ईसे सही – गलत की क्या पहचान वह जो भी ऄन्य बच्चों को देखता है वही रास्ते में खरीद लेने की अदत बनाता जाता है और यह अदत ईसकी ऄपव्यय में बदल जाती है ऄंततः ईसे और ईसके अस – पास , माता – शपता को ही दुःख पहुंचता है । और ऐसे ही वस्त्रों में भी लोग नकल करते हैं दफ़कमी शसतारों की तरह के कपडे बच्चों को पहना कर खुि होते हैं । यह अदत ऄशधक खचब और नग्नता को बढ़ावा देती है । और आसपर तकब ददए जाते हैं दक शस्त्रयों की स्वतंरता पर लोग पाबन्दी लगा रहे । यह भी एक तरह की ऄशिक्षा का ही प्रमाण है दक लोग दुबारा मानव से ऄधब-अददमानव और अददमानव की तरह से वस्त्र धारण करने की ददिा में ऄग्रसर हो रहे हैं । और शजसे फै िन से जोड़ कर , अय – व्यय से जोड़कर , अर्थथक समृशद्ध से जोड़कर देखा जाता है । ऐसे ऄनेक ईदाहरणों से समाज का एक – एक कोना भरा पड़ा है दक शजसे देखकर सोचने पर अह शनकलती है और ह्रदय कहता है दक क्या यही शवश्वगुरु भारत है जो ऄन्धान्धुन्ध नकल कर रहा और जीवन के मायने जीवन का सम्मान नहीं पैसा , फै िन और न जाने कौन कौन सी वाशहयात कमब िाशमल हो गए । आस समस्या के शलए भी एक मंच बनाने की गंभीर अवश्यकता है दक शवद्यालयों में यह बताया जाये और घर पर भी संचार के माध्यमों से भी दक मानव के क्या – क्या मूल गुण हैं और ईसे कैसे रहना – खाना , पीना अदद है । नहीं तो अने वाला समाज कपडे को और संसकारों को भूल चुका होगा और जानवरों के जैसे ही जैसे – तैसे रहेगा बस वह साक्षर होगा और भौशतकता ही मूल और मुख्य शिक्षा होगी जो दक मानव को मानव नहीं वरन पैसे कमाने वाला यंर बना कर रख छोड़ेगी । लेखक हमारे पशरका के शनयशमत लेखक है, और यह पहले भी कु छ समाचार पशरका में ऄपने लेख को प्रकाशित कर चुके है।
  20. 20. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 19 चंपारण सत्याग्रह और ईद्यशमकता - ऄशवनाि कुमार चम्पारण सत्याग्रह के िताब्दी वषबगांठ की सबको बधाआयाँ। सुनने में तो बहुत ऄच्छा लगता है दक यह िताब्दी वषबगांठ है जब गांधी जी ने भारत के जमीन पर कोइ कायब चालू दकया था। मगर अज के समय में सभी वषब को ही याद रखते है, कोइ कायब को नहीं याद रखता। गांधी जी के खाते में गयी तो शसफब एक दो ही बात, पहला—ईन्होंने देि को अजादी ददलाइ और दूसरा- वो राष्ट्रशपता है शजसके कारण ईनका फोटो अज भारत के सभी नोटों पर शवद्यमान है। गांधी पर काम तो सबने दकया, मगर सब यही बताने में रह गए दक ऄचहसा के माध्यम से ईनहोंने कैसे देि को अजादी ददलाइ। कोइ यह जकदी नहीं बताता, अशखर आसके साथ-साथ ईन्होने दकए क्या? अशखर क्या अजादी सत्याग्रह से ही शमल गयी? क्या अंदोलन से शमल गयी, यदद हाँ तो खाने के शलए वो दकस पर शनभबर थे? सत्याग्रह के ददनों में गांधी जी के कायों को देखा जाए तो ईसकी फेहररस्त काफी लंबी है जो, एक गाँव, एक समाज को स्वावलंबी बनाने के शलए काफी है। सत्याग्रह के साथ साथ गांधी जी ने गाँव की सफाइ, शिक्षा और स्वरोजगार पर काफी कायब दकया था शजसमें से एक स्वरोजगार को तो खादी ग्रामोद्योग द्वारा ऄपना तो शलया गया मगर ईसके पीछे की वास्तशवकता को देखे तो ऄभी भी भारत सरकार /राज्य सरकारों के ऄंतगबत चलने वाली संस्था पत्थर के मूर्थत के समान है। ऄपने शहतों को साधने के शलए, सरकार ने आस संस्था को तो चालू कर ददया, मगर अगे कैसे बढ़ा जाय या दफर अज के ईद्योगों के सापेक्ष कैसे प्रशतयोगी हुअ जाय आसकी चचता िायद ही कभी की होगी। बहुत ददनों बाद लालू यादव जी ने रेलवे को संभाला तो एक ईद्घोषणा की दक रेलवे में हरेक जगह खादी के समान ही प्रयोग में लाये जाएंगे, मगर नौकरिाही में ईनकी फरमान कौन सुनने जाए, समस्या आतनी बताए जानी लगी दक यह कदम पीछे ले शलए गए। काि ईतनी मेहनत नौकरिाहों ने परेिानी का हल शनकालने में दकया रहता तो मालूम न दकतने छोटे लोग रोजगार की राह प्राप्त दकए रहते और खादी दकसी और जगह रहती। आन ददनों हमारे प्रधानमंरी जी के कारण थोड़ी बहुत बाजार में खादी की मांग तो बढ़ी है मगर ईस कदर नहीं शजस तरह होनी चाशहए। यह तो हुइ सरकारी शनशष्क्रयता के कारण गांधी जी के सपनों को तोड़ने की बात। मगर सच में हम सत्याग्रह के तरफ अंखे खोल कर देखेंगे तो हमें सत्याग्रह एक नए कलेवर में ददख सकता है, यह सत्याग्रह िहरों में जा कर रोजगार और शिक्षा प्राप्त करने को नहीं बोलता था जो हम और अप अज के समय में कर रहे है, यह सत्याग्रह तो बात करता था एक स्वावलंबी गाँव/िहर का जहां लोगों की जरूरते वहीं पूरी हो जाए। चाहे वो शिक्षा की जरूरत हो या दफर रोजगार की। सबके हाथों में आतना हो दक लोग अध्याशत्मक रूप से शवकशसत बन सके न दक अज के ईपभोक्तावाद के रूप में जहां पैसों को ही प्राथशमकता दी जाती है।
  21. 21. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 20 गांधी जी का एक बहुत बड़ा ज़ोर स्वरोजगार /स्व-ईद्यशमक्ता के प्रशत रहा है, शजससे हरेक सक्षम ऄपने पास के दूसरे लोगों को भी साथ ले कर अगे बढ़ सके चाहे वो ईद्यशमक्ता जैसे भी अए, एक खादी का कपड़ा बना कर अए या दफर कुछ और। हमने गांधी जी के सपनों को ईन्हीं के सपनों तक ही सीशमत कर ददया। यह कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा दक वो तो राह बता कर चले गए हमें तो अगे चलना था। हमने गांधी जी के सपनों का ऄथब पुरातन तरीकों तक ही सीशमत रखा कभी ईसे अगे बढ़ने नहीं ददया। जबदक सपने तो शसफब राह ही ददखाते है, करना तो बहुत कुछ होता है। अज समय की जरूरत है, की पुनः सत्याग्रह के समय में झांक कर देखे अशखर गांधी जी के सपने क्या थे, क्या वो ऄंग्रेजों से अजादी मार के शलए शनशमत्त थी या दफर कुछ और भी करने के शलए। अज शजस प्रकार समाज में रोजगार की कमी अ रही, तो वो क्या तरीके हो सकते हैं शजनसे पुनः रोजगार की ऄवस्था को बदला जा सके। क्या हमारा लक्ष्य शसफब नौकरी तक ही सीशमत रह गयी है जो अज के युवा में मुख्यतः ददखाइ देता है, जो यह चचता कभी नहीं करता है दक स्व के साथ समाज के प्रशत भी कुछ हमारा दाशयत्व है। अज का युवा शसफब आसके पीछे भागा जा रहा है दक ईसके शलए नौकरी ही स्थायी है। मगर अज के प्रशतद्वंदी युग में देखे तो नौकरी भी ऄब पहले के जैसे नहीं रही। अज ईसके कारण बहुतों को तो ऄपने समाज से शवस्थाशपत भी होना पड़ता है। मगर आसके पीछे का सच आतनी जकदी नजर नहीं अने वाला। नजर तो तब अता है, जब अपको एक समाज की जरूरत पड़ती है जो अपके पीछे खड़ा कहीं नहीं ददखता। ऄतः अज समय है पुनर्थवचार का, जो एक नौकरी और स्वरोजगार के ऄवसरों को तलािने की शजससे हम ऄपने साथ-साथ समाज को भी साथ लेकर चल सके न दक वक़्त अने पर हम समाज को ढूँढने चल पड़े जब हमारी चजदगी की ऄशधकतर समय खत्म हो चुकी हो। लेखक पाटली ऄबबनोक्रेट्स के सशचव सह सदस्य है। लेखक ने ऄशभयांशरकी और एमबीए की पढ़ाइ करने के बाद सामाशजक क्षेर की कइ नामी- शगरामी संस्थाओं के साथ भी ग्रामीण रोजगार और प्रशिक्षण के शलए कायब कर चुके है। आसके ऄलावा ये केनरा बैंक के ऄशतशथ-प्रशिक्षक भी है।
  22. 22. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 21 सोशल न्यूज़/ Social News यह ऄक्सर देखा जाता है, बहुत सारे सामाशजक कायबकताब और संस्था को अम जनता द्वारा जानबूझ कर नजरंदाज़ कर ददया जाता है। यह नजरंदाजी ऐसे ही नहीं अती है। यह अती है तो ईन संस्थाओं के कारण जो आस सामाशजक कायब को एक ऄलग नजररए से देखते है और लोगों के साथ शवश्वासघात करते है। मगर आन्हीं कुछ खबरों के बीच ऐसी खबर जो अपके समक्ष बहुत कम लोग ही रखते होंगे क्योंदक ये हो सकते हैं ईतने चर्थचत न हो मगर ये कुछ चेहरों पर तो मुस्कान छोड़ जाते और कुछ को अगे बढ़ने की राह भी ददखाते है। ये वो है जो कुछ देना जानते है, मगर आन्होंने कभी दकसी से कोइ ऄपेक्षा न रखी। भारत एक कृशष-प्रधान देि है और आसके शलए बहुत कुछ दकया जाना बाकी है, तो B2V (बैक 2 शवकलेज) के सदस्य है न, ऄपनी पुरातन खेती को वैज्ञाशनक दृशष्टकोण से जोड़ते हुए ईसे बचाने को कृ षकों को ओगेशनक खेती का प्रशिक्षण दे रहे। शभक्षावृशत एक सामाशजक बुराइ है मगर बहुत कम ही हाथ अगे अते है आसे शमटाने को, आनमें से एक है SAHWES के धमेद्र जी, जो ऄपनी टीम के साथ कानपुर में ऄपनी शजद पर प्रयासरत है बच्चों को शिक्षा से जोड़ने के शलए। Champaran is the place from where Gandhi ji had started Satyagraha, but very few people remember that Champaran. To create a recognition over world again Munna bhai is working hard on ground which let him to represent India in coming SAARC Youth Summit. When we talk about entrepreneurship and there is no any story of Gujarat, how its possi- ble. Like every year Nitin Tailor keep travel- ling across different areas to find a new story from which we can learn. Bharuch, Gujaratमयूरभंज, ओशडसा कानपुर, यूपी Motihari, Bihar
  23. 23. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 22 Sitamarhi, Bihar ऄंदकत केिान और ईनके शमरों द्वारा संचाशलत कैलािा फ़ाईंडेिन, जो देि के शवशभन्न कोने में बैठ कर छारों की शजज्ञासा का समाधान ऄपने संस्था के फे सबुक पेज और व्हाटसऄप नंबर से करते नजर अते है। FB: @kailashafoundation.org The founder of Roti bank Azad Pandey has such a passion to do something for poor that he be- came Santa Clause on Wheel Chair despite fracture in his leg on this Christmas. IIT, बॉम्बे के एक छार िहजाद द्वारा चालू की गयी संस्था पंखुड़ी फ़ाईंडेिन का एक रूप देखने को शमला तो पटना में, शजसमें ददलकि शवश्वास रखते है तो खुशियाँ बांटने के साथ बच्चों को कु छ ऄलग सीखा जाने को और साथ देते है िहर के युवा जो मुफ्त ही आनके केंद्र पर चले अते है। सामान्यरूप से बहुत सारे टैलंट हंट कायबक्रम पूरे भारत में चलते रहते है, मगर आसका एक ऄलग संस्करण कुमुददनी ट्रस्ट द्वारा देखने को शमला, शजसमें शसफब ऐसे बच्चे ही मुख्यतः भाग शलए शजनको बढ़ने के सारी पररशस्थशतयाँ ईनके शवपरीत चल रही हो। When we talk about the improvement of rural education, how we can forget the MAUKA Foun- dation run by Akhilesh of IIT Kharagpur who is improving the quality through various competi- tions in rural areas. When it comes to social work, the ideas are not limited to specific. This is what “A Native Tongue Called Peace” team is doing by supporting children and working on peace through music concerts. पटना, शबहारImphal, Manipur पटना, शबहार Gorakhpur, UP पटना, शबहार
  24. 24. Patliavadana (पाटली-ऄवदना) January 2017 An E-Magazine cum journal by Patli Urbanocrats (Trust) 23 भीतर के पन्नों में प्रचार हेतु अप हमसे संपकब कर सकते है हमारे इमेल पर या व्हाट्सएप्प द्वारा +91-9430544431 पर। You can contact us for advertisement in inner pages through our email or whatsapp number 9430544431. Half Page: 750/- per edition Full Page: 1000/- per edition हम यह शवश्वास ददलाते है, अपके द्वारा ददया गया प्रत्येक शवज्ञापन का एक ऄंि सामाशजक कायों में प्रयोग दकया जाएगा। We ensure that a part of money paid for advertisement will be used for various social cause. यदद अपके पास भी सामाशजक मुद्दों पर कुछ शलखने को है या सामाशजक कायबकताबओं या संस्था के बारे में कुछ समाचार है तो हमें संबशन्धत फोटो और शडसक्लेमर के साथ इमेल करे: contact.patliurbanocrats@gmail.com If you want to write on any social issues or you have news of social worker or organization then mail us the with related picture and disclaimer on email id: contact.patliurbanocrats@gmail.com PatliUrban

×