O slideshow foi denunciado.
Utilizamos seu perfil e dados de atividades no LinkedIn para personalizar e exibir anúncios mais relevantes. Altere suas preferências de anúncios quando desejar.
धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
श्री प्रशाांत के व्...
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
हमारे
तिए
धमम का
इतना
ही
अर्म है-
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
हमारे
तिए
धमम का
इतना
ही
अर्म है-
√ मंदिर चले जाना या
मदजिि चले जाना,
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को...
हमारे
तिए
धमम का
इतना
ही
अर्म है-
√ कोई दिताब है उसको
पूिनीय मान लेना,
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख क...
हमारे
तिए
धमम का
इतना
ही
अर्म है-
√ कुछ त्यौहार हैं, उन त्यौहारों
को मना लेना,
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पू...
हमारे
तिए
धमम का
इतना
ही
अर्म है-
,
√ और कुछ रजमें बना दी गई ं
हैं, उनका पालन करना
www.advait.org.in www.prashantadvait.co...
हमारे
तिए
धमम का
इतना
ही
अर्म है-
√ मंदिर चले जाना या मदजिि चले
जाना,
√ कोई दिताब है उसको पूिनीय मान
लेना,
√ कुछ त्यौहार ह...
एक प्रकार की
नैतिकिा
है
धमम
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
एक प्रकार की
नैतिकिा
है
धमम
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
?
?
?
?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
धर्म का अर्म है
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
धर्म का अर्म है
िगातार
हर पि
ये ज...
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
धर्म का अर्म है
प्रततपि
जागृत
रहना
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
धर्म का अर्म है
पूरे तरीके
से
अपन...
िगातार-
िगातार
जो नकिी है,
उससे
बचे रहना
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क...
िगातार-
िगातार
जो नकिी है,
उससे
बचे रहना
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क...
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
इस वक़्त
तुर् पूरे ध्यान
र्ें हो,
...
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
इस वक़्त
तुर् पूरे ध्यान
र्ें हो,
...
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
इस वक़्त
तुर् पूरे ध्यान
र्ें हो,
...
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
धर्म
क्या
नहीं
है
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
धर्म
क्या
नहीं
है
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
धर्म
क्या
नहीं
है
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
धर्म
क्या
नहीं
है
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
धर्म
क्या
नहीं
है
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
धर्म
क्या
नहीं
है
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
कोई भी धमम तकसी ना तकसी परम
की बात ज़रूर करता है,
द अल्टीमेट, सर्वोच्च
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को...
कभी इसको ब्रह्म कहते हैं,
कभी तर्वशुद्ध चेतना
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें ध...
‘परर्’ यातन ऊँ चा,
ऊँ चे से भी ऊँ चा
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या ...
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
ऊँ चा कौन ?
जो सबसे र्ुक्त है,
वही उच्च कहलाता है
िो, धर्म का अर्म है,
र्ुति
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने...
जो सबसे र्ुक्त है,
वही उच्च कहलाता है
िो, धर्म का अर्म है, र्ुति
और वह जो ऊँ चे से ऊँ चा है,
वह सबसे अछू ता है-
बबल्कु ल ब...
जो सबसे र्ुक्त है,
वही उच्च कहलाता है
िो, धर्म का अर्म है, र्ुति
और वह जो ऊँ चे से ऊँ चा है,
वह सबसे अछू ता है; बबल्कु ल ब...
जब ज़रे-ज़रे में र्वो समाया है,
तो क्या तुम्हरे भीतर नहीं है र्वो ?
‘ज़राम-ज़राम चर्किा है नूर-ए-इलाही से’
www.advait.org.in w...
जब ज़रे-ज़रे में र्वो समाया है,
तो क्या तुम्हरे भीतर नहीं है र्वो ?
‘ज़राम-ज़राम चर्किा है नूर-ए-इलाही से’
www.advait.org.in w...
जब ज़रे-ज़रे में र्वो समाया है,
तो क्या तुम्हरे भीतर नहीं है र्वो ?
‘ज़राम-ज़राम चर्किा है नूर-ए-इलाही से’
www.advait.org.in w...
‘मैं ही तो हँ,
और कौन है’?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
आदमी के सार् एक तदक्कत है
आदमी ये...
तुमने कै से मान ललया लक तुम
उसे से कु छ अलग हो?
लया उससे अलग कु छ भी है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख...
हम! जछछोरी हरकतें करतें हैं, हम परम हैं?
जबल्कुल ठीक ।
जजस क्षण में तुम बीड़ी पी रहे हो,
उस क्षण में तुम परम नहीं हो ।
‘तुम...
जब तुम्हें स फ-स फ य द है,
तब तुम हो ।
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्य...
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
यह प्रस्तुजत जनम्नजलजित लेि का अंश है:
“धर्म क्या है?”
र्लिक करें
@
धर्म क्या है?
(श्री प्रशाांत – Words into Silence)
पूर...
जललक करें
अगली स्लाइड पर, पूरा िीजडयो
देिने के जलए
www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक क...
लेिक जशक्षक उपक्रमी,
और इनसबके पार
अद्वैत ि इफ-एजुके शन संस्थाके
मागगदशगक,संचालक
उनके नेतृत्ि में, जहमालय की गोद में
आयोजज...
जीिन-सम्बंजधत िातागओं एिं व्याख्यानों में संलग्न। िेदांत एिं
सभी समयों एिं स्थानों के आध्याजत्मक साजहत्य पर प्रिचन देना
भी...
श्री प्रश ांत के साथ बोध सत्र अद्वैत जथल, नॉएडा में
आयोजजत जकये जाते हैं
रजििार सुबह ९.३० एिं बुधिार शाम ६.३० बजे
सभी क स्...
धर्म क्या है
धर्म क्या है
Próximos SlideShares
Carregando em…5
×

धर्म क्या है

592 visualizações

Publicada em

Following presentation is an excerpt from discourse given by Shri Prashant on behalf of Advait Life-Education at KIMT, Moradabad on 25th February, 2013.

Clarity sessions are held at Advait office every Sunday 9.00 am and Wednesdays at 6:30 pm. All are welcome!

Advait Learning camps in Himalayas, led by Shri Prashant, are organised at regular intervals. To participate, contact 0120-4560347.

www.advait.org.in
Twitter: Prashant_Advait
Blog: prashantadvait.com
FB: facebook.com/prashant.advait
Youtube: youtube.com/c/ShriPrashant
Youtube: youtube.com/c/PrashantTripathi01
Pinterest: pinterest.com/prashantekarshi
Soundcloud : soundcloud.com/shri-prashant-tripathi
Yourlisten : yourlisten.com/Shri_Prashant_Tripathi
Google+: google.com/+ShriPrashant
Google+: google.com/+PrashantTripathi01
Linkedin: linkedin.com/in/prashantadvait
Tumblr: prashantadvait.tumblr.com

Publicada em: Espiritual
  • Seja o primeiro a comentar

धर्म क्या है

  1. 1. धर्म क्या है? www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? श्री प्रशाांत के व्याख्यान “धर्म क्या है?” पर आधाररत श्री प्रश ांत प्रस्तुतत: ऋचा सहाय
  2. 2. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  3. 3. हमारे तिए धमम का इतना ही अर्म है- www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  4. 4. हमारे तिए धमम का इतना ही अर्म है- √ मंदिर चले जाना या मदजिि चले जाना, www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  5. 5. हमारे तिए धमम का इतना ही अर्म है- √ कोई दिताब है उसको पूिनीय मान लेना, www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  6. 6. हमारे तिए धमम का इतना ही अर्म है- √ कुछ त्यौहार हैं, उन त्यौहारों को मना लेना, www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  7. 7. हमारे तिए धमम का इतना ही अर्म है- , √ और कुछ रजमें बना दी गई ं हैं, उनका पालन करना www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  8. 8. हमारे तिए धमम का इतना ही अर्म है- √ मंदिर चले जाना या मदजिि चले जाना, √ कोई दिताब है उसको पूिनीय मान लेना, √ कुछ त्यौहार हैं, उन त्यौहारों को मना लेना, √ और कुछ रजमें बना दी गई ं हैं, उनका पालन करना www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  9. 9. एक प्रकार की नैतिकिा है धमम www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  10. 10. एक प्रकार की नैतिकिा है धमम www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  11. 11. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  12. 12. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  13. 13. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  14. 14. ? ? ? ? www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  15. 15. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म का अर्म है
  16. 16. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म का अर्म है िगातार हर पि ये जानना तक मेरे तिए सही क्या है
  17. 17. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म का अर्म है प्रततपि जागृत रहना
  18. 18. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म का अर्म है पूरे तरीके से अपने संपकम में रहना
  19. 19. िगातार- िगातार जो नकिी है, उससे बचे रहना www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म का अर्म है
  20. 20. िगातार- िगातार जो नकिी है, उससे बचे रहना www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म का अर्म है िगातार हर पि ये जानना तक मेरे तिए सही क्या है प्रततपि जागृत रहना पूरे तरीके से अपने संपकम में रहना
  21. 21. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? इस वक़्त तुर् पूरे ध्यान र्ें हो, और जान रहे हो, तो तुर् धातर्मक हो
  22. 22. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? इस वक़्त तुर् पूरे ध्यान र्ें हो, और जान रहे हो, तो तुर् धातर्मक हो जजनका मन जिचजलत हो, िह गहराई से अध र्मिक व्यजि है
  23. 23. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? इस वक़्त तुर् पूरे ध्यान र्ें हो, और जान रहे हो, तो तुर् धातर्मक हो जजनका मन जिचजलत हो, िह गहराई से अध र्मिक व्यजि है
  24. 24. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  25. 25. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म क्या नहीं है
  26. 26. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म क्या नहीं है
  27. 27. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म क्या नहीं है
  28. 28. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म क्या नहीं है
  29. 29. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म क्या नहीं है
  30. 30. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? धर्म क्या नहीं है
  31. 31. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  32. 32. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  33. 33. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  34. 34. कोई भी धमम तकसी ना तकसी परम की बात ज़रूर करता है, द अल्टीमेट, सर्वोच्च www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  35. 35. कभी इसको ब्रह्म कहते हैं, कभी तर्वशुद्ध चेतना www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  36. 36. ‘परर्’ यातन ऊँ चा, ऊँ चे से भी ऊँ चा www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  37. 37. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? ऊँ चा कौन ?
  38. 38. जो सबसे र्ुक्त है, वही उच्च कहलाता है िो, धर्म का अर्म है, र्ुति www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? ऊँ चा कौन ?
  39. 39. जो सबसे र्ुक्त है, वही उच्च कहलाता है िो, धर्म का अर्म है, र्ुति और वह जो ऊँ चे से ऊँ चा है, वह सबसे अछू ता है- बबल्कु ल बनबलमप्त www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? ऊँ चा कौन ?
  40. 40. जो सबसे र्ुक्त है, वही उच्च कहलाता है िो, धर्म का अर्म है, र्ुति और वह जो ऊँ चे से ऊँ चा है, वह सबसे अछू ता है; बबल्कु ल बनबलमप्त तिस क्षण र्ें िुर् तनतलमप्त हो, उस क्षण र्ें िुर् तिल्कु ल ‘परर्’ ही हो www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? ऊँ चा कौन ?
  41. 41. जब ज़रे-ज़रे में र्वो समाया है, तो क्या तुम्हरे भीतर नहीं है र्वो ? ‘ज़राम-ज़राम चर्किा है नूर-ए-इलाही से’ www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  42. 42. जब ज़रे-ज़रे में र्वो समाया है, तो क्या तुम्हरे भीतर नहीं है र्वो ? ‘ज़राम-ज़राम चर्किा है नूर-ए-इलाही से’ www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  43. 43. जब ज़रे-ज़रे में र्वो समाया है, तो क्या तुम्हरे भीतर नहीं है र्वो ? ‘ज़राम-ज़राम चर्किा है नूर-ए-इलाही से’ www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  44. 44. ‘मैं ही तो हँ, और कौन है’? www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  45. 45. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  46. 46. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है? आदमी के सार् एक तदक्कत है आदमी ये मान कर बैठ जाता है तक ‘मैं उससे अिग हँ’
  47. 47. तुमने कै से मान ललया लक तुम उसे से कु छ अलग हो? लया उससे अलग कु छ भी है? www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  48. 48. हम! जछछोरी हरकतें करतें हैं, हम परम हैं? जबल्कुल ठीक । जजस क्षण में तुम बीड़ी पी रहे हो, उस क्षण में तुम परम नहीं हो । ‘तुम’ हो नहीं ही । www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  49. 49. जब तुम्हें स फ-स फ य द है, तब तुम हो । www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  50. 50. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  51. 51. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  52. 52. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  53. 53. www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  54. 54. यह प्रस्तुजत जनम्नजलजित लेि का अंश है: “धर्म क्या है?” र्लिक करें @ धर्म क्या है? (श्री प्रशाांत – Words into Silence) पूरे लेख को पढ़ने के ललए www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  55. 55. जललक करें अगली स्लाइड पर, पूरा िीजडयो देिने के जलए www.advait.org.in www.prashantadvait.com पूरे लेख को पढ़ने के ललए लललक करें धर्म क्या है?
  56. 56. लेिक जशक्षक उपक्रमी, और इनसबके पार अद्वैत ि इफ-एजुके शन संस्थाके मागगदशगक,संचालक उनके नेतृत्ि में, जहमालय की गोद में आयोजजत बोध जशजिरों में,कालातीत बोध-साजहत्य का जन्महो रहा है श्री प्रशाांि विा www.advait.org.in
  57. 57. जीिन-सम्बंजधत िातागओं एिं व्याख्यानों में संलग्न। िेदांत एिं सभी समयों एिं स्थानों के आध्याजत्मक साजहत्य पर प्रिचन देना भी अत्यजधक जप्रय। उनके िचनों ने एक जिजशष्ट बोध-साजहत्य को जन्म जदया है। (www.prashantadvait.com) अद्भुत हैं अजस्तत्ि के तरीके। आइआइटी और आइआइऍम से प्रौद्योजगकी और प्रबंधन की जशक्षा प्राप्त करने के पश्चात्, और जिजभन्न उद्योगों में कुछ समय के उपरान्त, समयातीत की सेिा की ओर उन्मुि हुए।
  58. 58. श्री प्रश ांत के साथ बोध सत्र अद्वैत जथल, नॉएडा में आयोजजत जकये जाते हैं रजििार सुबह ९.३० एिं बुधिार शाम ६.३० बजे सभी क स्व गत है! इस एिं ढेरों अन्य जिजडयो की प्रजतजलजप पढ़ने के जलए सिजय बनें (सब्सक्राइब करें – कोई शुल्क नहीं) @ www.prashantadvait.com

×